Wednesday, 20 May 2015

खुद भी रख सकते हैं अपने दिल का खयाल

  यह विवरण ह्वाटऐप पर मिला है। इस  बेहद जरूरी व समग्र जानकारी का आप भी लाभ उठाएं।  यह बातचीत अंग्रेजी में है जिसे मैं हिंदी में दे रहा हूं।......... अवलोकन करें ।............. मेदांता अस्पताल के हृदयरोग विशेषज्ञ डा. नरेश त्रेहन से  इस बातचीत का आयोजन विप्रो ने अपने कर्मचारियों के लिए किया था। 


प्र.- किसी भी सामान्य व्यक्ति के लिए अपने दिल की देखरेख का सामान्य नियम क्या है.
जवाब.- 1- खानपान- कम कार्बोहाइड्रेट, अधिक प्रोटीन व कम वसा का सेवन।
           2.- सप्ताह में कम से कम पांच दिन डेढ़ घंटे टहलना, लंबे समय तक बैठने से बचना। लिफ्ट के इस्तेमाल से बचें।
           3- धूम्रपान निषेध।
           4- वजन बढ़ने नहीं देना।
           5- ब्लड प्रेसर व सुगर को नियत्रित रखना।

प्रश्न- क्या फैट को मांसपेशियों में बदल सकते हैं।
जवाब- यह एक खतरनाक मिथक है। फैट और मासपेशी दोनों अलग अलग होते हैं।  फैट को कभी भी मांसपेशी में नहीं बदला जा सकता।
प्रश्न- यह बड़ा अजीब लगता है कि कोई स्वस्थ व्यक्ति को दिल की बीमारी हो गई। या दिल का दौरा पड़ जाता है। यह कैसे हो जाता है।
जवाब- यह अचानक से दिल का दौरा होता है। इसी कारण सलाह दीजाती है कि 30 की उम्र के बाद से नियमित तौर पर अपने स्वास्थ्य की जांच कराते रहना चाहिए।
प्रश्न- क्या दिल की बीमारी आनुवंशिक यानी एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में अपने-आप चली जाती है
जवाब- हां।
प्रश्न- वह कौन सा कारण है जिससे तनाव और दिल की बीमारी होती है। इससे बचने के लिए आप क्या सुझाव देंगे।
जवाब- अपने रहन-सहन औग जीवन के प्रति नजरिए को बदलिए। जीवन में सबकुछ मिल जाएगा या सबकुछ ठीक रहता है,ऐसी सोच से बचिए।
प्रश्न- क्या जागिंग से टहलना अच्छा व्यायाम है या स्वस्थ रहने के लिए इससे भी तगड़ा व्यायाम करना चाहिए।
जवाब- टहलना जागिंग से अच्छा है। जागिंग से आपको परेशानी हो सकती है। जोड़ों को नुकसान पहुंच सकता है।
प्रश्न- निम्न रक्त चाप वाले लोग दिल की बीमारियों से ग्रसित हो जाते हैं।
जवाब- बहुत कम।
प्रश्न- क्या कोलस्ट्रोल कम उम्र से ही बढ़ने लगता है या फिर 30 की उम्र के बाद इसकी चिंता करनी चाहिए।
जवाब- बचपन से ही कोलोस्ट्रोल बढ़ने लगता है।
प्रश्न- अनियमित खानपान की आदत क्या दिल को नुकसान पहुंचाता है।
जवाब- हां।
प्रश्न- बिना दवा के हम कोलोस्ट्रोल को कैसे नियंत्रित कर सकते हैं।
जवाब- खानपान पर नियंत्रण, टहलना व बादाम के सेवन से संभव है।
  प्रश्न- दिल के स्वास्थ्य के लिए सबसे अच्छा व सबसे खराब भोजन क्या है।
जवाब- फल व सब्जियां अच्छा व तेल या तैलीय खराब माना जाता है।
प्रश्न- कौन सा तेल दिल के लिए अच्छा है।
जवाब- सभी प्रकार के तेल दिल के लिए खराब है।
प्रश्न- हर किसी को कौन सी जांच नियमित करानी चाहिए। क्या कोई विशेष जांच भी करानी चाहिए।
जवाब- नियमति जांच में ब्लड सुगर , कोलस्ट्रोल की नियमित जांच करानी चाहिए। ईको टेस्ट के बाद ब्लड प्रेसर , ट्रेडमिल टेस्ट कराना चाहिए।
प्रश्न- दिल का दौरा पड़ जाए तो पा्रथमिक तौर पर क्या करना चाहिए।
जवाब- मरीज को लिटा दें। उसकी जीभ के नीचे एसपिरिन टेबलेट रख दें। अगर उपलब्ध हो तो सार्बिट्रेट टेबलेट भी जीभ के नीचे साथ में रख दें। फौरन पास के हृदय चिकित्सा विभाग में पहुंचाएं। ध्यान रखें, दिल का दौरा पड़ने के बाद अधिकतर मौतें एक घंटे के भीतर हो जाती हैं।
प्रश्न- कैसे समझे कि दलि में जो दर्द हुआ है वह दिल के दौरे का है या पेट में गैस के कारण हुआ है।
जवाब- बिना ईसीजी के जानना बेहद कठिन है।
प्रश्न- कम उम्र के लोगों में हृदय रोग का क्या कारण है। साधारणत: देखा गया है कि 30-40 की उम्र वालों को दिल का दौरा पड़ता है या दिल की गंभीर बीमारी के शिकार हो जाते हैं।
जवाब-खराब जीवन शैली, धूम्रपान, नियमित व्यायाम नहीं करना।
प्रश्न- क्या संभव है कि अगर किसी को 120/80 के सामान्य स्तर से ज्यादा ब्लड प्रेसर हो और फिर भी वह स्वस्थ हो।
जवाब- जी हां।
प्रश्न- एकदम नजदीकी रिश्तेदार से शादी करना क्या पैदा होने वाले बच्चे में दिल की बीमारी की समस्या पैदा करेगा।
जवाब- जी हां।
प्रश्न- आफिस में देर रात तक काम करना अनियमित जीवन से क्या दिल की बीमारी का खतरा है। इससे बचने के लिए क्या करना चाहिए।
जवाब- जब तक आप जवान हैं नेचर आपकों इन अनियमितताओं से बचाती है। जैसे ही आपकी उम्र बढ़ती है आपको नेचर ( biological clock ) के हिसाब से रहना चाहिए।
प्रश्न- क्या anti hypertention दवाएं लेने  कोई दिक्कत हो सकती हैं।
जवाब- जी हां। अधिकतर दवाएं नुकसान भी करती हैं। हालांकि अब आधुनिक दवाएं ज्यादातर सुरक्षित होती हैं।
प्रश्न- क्या ज्यादा काफी या चाय पीने से दिल का दौरा पड़ सकता है।
जवाब- नहीं।
प्रश्न- क्या अस्थमा के मरीज को दिल की बीमारी का भी खतरा रहता है।
जवाब- नहीं।
प्रश्न- जंक फूड क्या है।
जवाब- समोसा, मसाल डोसा, मैकडोनाल्ड जैसी व अन्य तले खाद्य ही जंक फूड हैं।
प्रश्न- अमेरिकी या अन्य यूरोपीय, जो कि काफी जंक फूड खाते हैं, की तुलना में भारतीय को दिल की बीमारी का तीन गुना खतरा ज्यादा क्यों है।
जवाब- दुर्भाग्य से हर एक प्रजाति में किसी रोग का खतरा ज्यादा होता है। भारतीयों में भी दिल की बीमारी का खतरा ज्यादा होता है।
प्रश्न- उच्च रक्तचाप क्या केला खाने से कम होता है।
जवाब- नहीं।
प्रश्न- जब दिल का दौरा पड़ जाए तो क्या खुद से अपनी मदद की जा सकती है।
जवाब- जी हां। सीधे आराम से लेट जाइए। जीभ के नीचे कोई एसपिरिन टेबलेट रख लें और किसी से भी अस्पताल पहुंचाने को बोलें।अंबुलेंस की प्रतीक्षा न करें। कई बार अंबुलेंस नहीं मिल पाती है।
प्रश्न- बहुत व्यस्तता के कारण कई बार हम व्यायाम नहीं कर पाते। तो घर के कुछ काम करके या सीढ़ियों पर चढ़ने वगैरह से व्यायाम का काम हो जाता है।
जवाब- जी हां। डेढ़ घंटे से ज्यादा एक जगह न बैठें।
प्रश्न- क्या ब्लड सुगर और दिल की बीमारी का कोई संबंध है।
जवाब- जी हां। सुगर वाले मरीज को दिल का दौरा पड़ने का खतरा ज्यादा होता है।
प्रश्न- दिल के आपरेशन के बाद किन-किन बातों का ध्यान रखना आवश्यक होता है।
जवाब- संतुलित आहार, व्यायाम, समय पर दवा लेना, कोलोस्ट्रोल, रक्तचाप और वजन को नियंत्रित रखना चाहिए।
प्रश्न- रात की पाली में काम करने वालों को दिन में काम करने वालों की तुलना में क्या दिल की बीमारीका ज्यादा खतरा होता है।
जवाब- नहीं।
प्रश्न- आधुनिक रक्तचाप निरोधी दवाएं क्या है।
जवाब- सैकड़ों ऐसी दवाएं हैं। आपका डाक्टर आपकी समस्याओं के हिसाब से इसमें से कोई चुनता है। मेरी सलाह अगर मानें तो रक्तचाप को प्रकृतिक तौरपर नियंत्रित करने का तरीका अपनाएं। यह तरीका है- नियमित टहलना, वजन को नियंत्रित रखने वाले आहार लेना और जीवनशैली पर ध्यान देना।
प्रश्न- क्या डिस्प्रिन या सिरदर्द की दूसरी दवाएं दिल के दौरे का कारण बन सकती हैं।
जवाब- नहीं।
प्रश्न- महिलाओं की तुलना में पुरूषों को दिल के दौरे का खतरा क्यों ज्यादा होता है।
जवाब- प्रकृतिक तौर पर महिलाएं 45 वर्ष तक दिल की बीमारी से सुरक्षित होती हैं।
प्रश्न- दिल को कैसे स्वस्थ रखा जा सकता है।
जवाब- स्वास्थ्य वर्द्धक आहार लें, जंक फूड न खाएं, धूम्रपान न करें, अगर आप तीस की उम्र के हो गए हो तो  कम से कम छह महींने में एक बार स्वास्थ्य की नियमित जांच कराएं।






Monday, 2 March 2015

इनकम टैक्स बचाने के लिए यह भी कर सकते हैं उपाय …..

 इस साल बजट में सरकार ने भले ही टैक्स श्रेणी में कोई बदलाव नहीं किया है लेकिन स्वास्थ्य बीमा, शुकन्या समृद्धि खाता और नेशनल पेंशन स्कीम (एनपीएस) पर टैक्स छूट बढ़ाकर उपभोक्ताओं के लिए निवेश को ज्यादा आकर्षक बना दिया है। सुकन्या खाते पर ब्याज पहले से अधिक था अब उसपर तीन स्तरों पर टैक्स छूट ने उसे सार्वजनिक भविष्य निधि (पीपीएफ) से भी आकर्षक बना दिया है।

पीपीएफ से अधिक ब्याज
सुकन्या समृद्धि खाता 10 साल तक की लड़कियों के लिए खोला जा सकता है। बेटी के 18 साल होने पर इसमें से 50 फीसदी राशि शिक्षा खर्च के लिए निकालने की अनुमति है। 21 वर्ष की उम्र के बाद इसमें से पूरी राशि निकाल सकते हैं। सरकार इस पर 9.10 फीसदी ब्याज दे रही है। सुकन्या खाता में सालाना एक हजार रुपये का निवेश अनिवार्य है और अधिकतम 1.50 लाख रुपये जमा कर सकते हैं।
सुकन्या खाता में निवेश राशि पर ही पहले टैक्स छूट थी लेकिन इस बजट में इसके ब्याज और परिपक्वता पर मिलने वाली राशि पर भी टैक्स छूट दी गई है। इस मामले में यह पीपीएफ के बराबर हो गया जिसपर तीन स्तरों पर टैक्स छूट मिलती है। लेकिन ब्याज के मामले में सुकन्या खाता पीपीएफ से ज्यादा आकर्षक है। पीपीएफ पर 8.75 फीसदी ब्याज मिल रहा है जबकि सुकन्या खाता पर 0.35 फीसदी ब्याज अधिक है।

पेंशन योजनाओं का भी बढ़ा आकर्षक
नेशनल पेंशन स्कीम (एनपीएस) में टैक्स छूट 50 हजार रुपये बढ़ाकर 1.50 लाख रुपये कर दिया गया है। यह छूट धारा 80सी के तहत मिलती है। इसके साथ ही आयकर की धारा 80सीसीडी के तहत नेशनल पेंशन सिस्टम में 50 हजार रुपये की अतिरिक्त टैक्स छूट भी दी गई है। इस तरह अब पेंशन योजना में कुल दो लाख रुपये की टैक्स छूट हासिल कर सकते हैं। एनपीएस पर ब्याज पहले से तय नहीं है क्योंकि इसकी राशि कई माध्यमों में निवेश की जाती है। लेकिन पिछले कुछ वर्षो में इसमें 12 से 15 फीसदी तक रिटर्न दिया है। इसमें रिटर्न पीपीएफ से अधिक है लेकिन इस पर दो स्तरों पर ही टैक्स छूट मिलती है। इसमें निवेश और उसके ब्याज पर टैक्स मिलती है जबकि परिपक्वता राशि पर टैक्स चुकाना पड़ता है।

स्वास्थ्य बीमा पर कितना फायदा
आयकर की धारा 80 डी के तहत स्वास्थ्य बीमा पर पहले 15 हजार रुपये की टैक्स छूट थी जबकि इसे 10 हजार रुपये बढ़ाकर 25 हजार रुपये कर दिया गया है। इसके तहत स्वास्थ्य जांच पर पांच हजार रुपये की छूट मिल रही थी जो आगे भी जारी रहेगी। ऐसे स्थिति में आप 20 हजार रुपये स्वास्थ्य बीमा के प्रीमियम पर और पांच हजार रुपये स्वास्थ्य जांच के खर्च पर सालाना टैक्स छूट हासिल कर सकते हैं। यदि 25 हजार रुपये का स्वास्थ्य बीमा प्रीमियम भरते हैं तो स्वास्थ्य जांच पर पांच हजार रुपये की छूट का दावा नहीं कर सकते हैं।

माता-पिता की बीमा पर ज्यादा टैक्स लाभ
वरिष्ठ नागरिकों के लिए स्वास्थ्य बीमा पर टैक्स छूट 20 हजार रुपये थी जिसे बढ़ाकर 30 हजार रुपये कर दिया गया है। यदि आप खुद के साथ वरिष्ठ नागरिक की श्रेणी में आने वाले माता-पिता के लिए स्वाथ्य बीमा का प्रीमियम भरते हैं तो 25 हजार रुपये के साथ 30 हजार रुपये की अतिरिक्त छूट हासिल कर सकते हैं जिससे कुछ छूट 55 हजार रुपये हो जाएगी।

वरिष्ठ नागरिक को अधिक राहत
वरिष्ठ नागरिकों के लिए स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी पर टैक्स छूट व्यक्तिगत तौर पर 30 हजार रुपये है। लेकिन वरिष्ठ नागरिक की श्रेणी में आने वाले पति-पत्नी या आश्रित 30 हजार रुपये अतिरिक्त छूट का दावा कर सकते हैं। इस तरह कुल छूट बढ़कर 60 हजार रुपये हो जाएगी। इस स्थिति में भी स्वास्थ्य जांच पर पांच हजार रुपये टैक्स छूट सीमा इसके दायरे में होगी।

पीपीएफ पर कैसे उठाएं ज्यादा फायदा
पीपीएफ में सालाना न्यूनतम 500 रुपये निवेश अनिवार्य है। इसपर ब्याज की गणना हर महीने की पांच तारीख से अंतिम तारीख के बीच न्यूनतम जमा राशि पर होती है। यदि आप हर माह एक तारीख से पांच तारीख के बीच पीपीएफ में पैसे जमा करते हैं तो ज्यादा फायदा उठा सकते हैं। यदि आपने पीपीएफ में पहले माह एक हजार रुपये जमा किया लेकिन दूसरे माह छह तारीख को पैसा जमा करते हैं तो ब्याज एक हजार रुपये पर ही मिलेगी। इसके विपरित दूसरे माह पांच तारीख के पहले पैसा जमा करते हैं तो ब्याज का आकलन दो हजार रुपये की राशि पर होगा।
(साभार-http://livehindustan.com/news/business/businessnews/article1-Sukanya)

Friday, 17 October 2014

हर छह घंटे में मुख, गले के कैंसर के एक मरीज की मौत हो जाती है

    दिसंबर २०१३। काशी हिंदू विश्वविद्यालय के इंस्टीटीयूट आप मेडिकल साइंस संस्थान का सर सुंदर लाल अस्पताल। गरीबों के लिए उत्तर पूर्वी भारत का सबसे बड़ा अस्पताल। आपरेशन थिएटर के सामने हम बेचैन थे। कैंसर के आपरेशन का अलग थिएटर। एक-एक करके आपरेशन किए जा चुके मरीजों को हमारे सामने जब ले जाया जाता तब हम उनकी दशा देखकर सिहर उठते थे। करीब पांच घंटे बाद मेरा भी नंबर आया।  बड़े भाई मदन मोहन सिंह के गले के कैंसर का आपरेशन संपन्न हो गया था। तुरन्त उन्हें लेकर इंटेंसिव केयर यूनिट की ओर लेकर भागे। साथ में डाक्टर भी थे। तीन दिन तक हम इंटेंसिव केयर यूनिट के बाहर रात दिन पड़े रहे। तीसरे दिन जब भाई की आंख खुली तो जान में जान आई। मैं और भी मानसिक तौर पर परेशान था। क्यों कि मैंने ही भाई का बीएचयू में आपरेशन और इलाज का फैसला लिया था। इसका कारण धनाभाव व पारिवारिक असयोग था। मुझे कोलकाता से बनारस जाकर भाई की जांच करानी पड़ती थी। ऐसी स्थिति में लोगों के सुझाव पर मुम्बई टाटा सेंटर ले जाकर इलाज करा पाना मेरे लिए नामुमकिन था। हालांकि जब मैं तैयैर हो गया और सबकुछ करने लगा तोे बाकी परिवार के लोग साथ खड़े होगए।
 यह मैं इसलिए बता रहा हूं कि कैंसर अगर किसी को हो जाए तो वह जीतेजी मर जाता है मगर उसके परिवार वाले भी भारी संकट में पड़ जाते हैं। अभी हाल में ही रिपोर्ट आई है कि हर छह घंटे में मुख, गले के कैंसर के एक मरीज की मौत हो जाती है। यह रिपोर्ट इस लिए भी भयावह है क्यों कि इसमें वह आंकड़े शामिल नहीं हैं जिनका पता ही नहीं चलता है। ग्रामीण इलाके और बेहद गरीब तबके के लोगों के केस तो ज्यादातर दर्ज नहीं हो पाते हैं। अंधाधुंध धूम्रपान और तंबाकू के सेवन से उत्तरपूर्वी भारत में यह महामारी बन गया है। इसके अलावा पश्चिम बंगाल, आंध्रप्रदेश, तमिलनाडु, गुजरात में यह कैंसर जानें ले रहा है। ओरल कैंसर का इलाज करने वाले डाक्टरों का दावा है कि समय रहते प्रथम चरण का पता चल जाने पर इसका सौ फीसद ईलाज संभव है मगर इसके दूसरे स्टेज में चले जाने पर मरीज चार-पांच सालों में ही दम तोड़ देता है।
    मित्रों, इससे पहले कि मेरी तरह आपको किसी अपने के कैंसर की गिरफ्त में आने का पता चले, आप सतर्क हो जाइए। बचाव ही उचित इलाज है। मैंने अपने भाई को बचा तो लिया है मगर कैंसर का खौफ अपने मन से निकाल नहीं पाया हूं। किसी मुश्किल में फंसने से पहले सतर्क हो जाइए।

ईपीएफओ यूनिवर्सल अकाउंट नंबर (यूएएन) सुविधा की शुरुआत

ऐसे पता करें कि क्या है आपका UAN नंबर
जानिए कैसे निकाला जाता है PF का पैसा
कितने साल बाद और कब निकाल सकते हैं PF का पूरा पैसा

     प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) यूनिवर्सल अकाउंट नंबर (यूएएन) सुविधा की शुरुआत कर दी। इसके जरिए ईपीएफओ सदस्य अपने यूनिवर्सल पीएफ अकाउंट को रियल टाइम बेसिस पर देख सकेंगे। इसके अलावा प्रधानमंत्री ने श्रम सुविधा नाम का एक वेब पोर्टल भी लॉन्च किया।
यूएएन के जरिए आप अपने अकाउंट का बैलेंस तो चेक कर ही सकते हैं साथ ही पासबुक और यूएएन कार्ड भी डाउनलोड कर सकते हैं, लेकिन बहुत सारे लोगों को अभी तक अपना यूएएन नहीं पता है। बहुत सारे लोग ऐसे भी हैं, जिन्हें यह भी नहीं पता कि उन्हें यूएएन मिला भी है या नहीं। आइए जानते हैं किस तरह से जानें कि यूएएन नंबर मिला है या नहीं और यदि मिला है तो कैसे होगा एक्टिवेट-

UAN स्टेटस पता करें 
अपना UAN स्टेटस पता करने के लिए इस लिंक http://uanmembers.epfoservices.in/check_uan_status.php पर क्लिक करें।
इसके बाद जो पेज खुलना है, उसमें मांगी गई जानकारियां भरें। इसमें राज्य का नाम, सिटी का नाम, इस्टेबलिशमेंट कोड और पीएफ अकाउंट नंबर भरना होगा और चेक स्टेटस बटन पर क्लिक करना होगा। इस पर क्लिक करते ही आपको एक मैसेज दिखेगा, जिसमें यह बताया गया होगा कि आपको यूएएन नंबर मिला है या नहीं। अगर आपको यूएएन नंबर मिल गया है तो आप इसके लिए अपनी कंपनी से पता कर सकते हैं।

कैसे करें एक्टिवेट

STEP 1- कंपनी से यूएएन पता करके आपको उसे एक्टिवेट कराना होगा। इसे एक्टिवेट कराने के लिए http://uanmembers.epfoservices.in/index.php?accesscheck=%2Fhome.php इस लिंक पर क्लिक करें। खुलने वाले नए पेज पर activate your UAN पर क्लिक करें।
STEP 2- लिंक पर क्लिक करने के बाद एक पेज खुलेगा, जिसमें यूएएन नंबर, मोबाइल नंबर, राज्य, सिटी, इस्टेबलिशमेंट और पीएफ अकाउंट नंबर डालना होता है। सारी जानकारी भरने के बाद वैरिफिकेशन कोड डालकर ‘GET PIN’ पर क्लिक करें। इस पर क्लिक करने के बाद 5 मिनट के अन्दर आपके पास एक पिन आएगा, जिसे फॉर्म में डालकर सबमिट करना होगा।
STEP 3- सबमिट करने के बाद जो विंडो खुलेगी, उसमें आपका नाम, पिता का नाम, कंपनी का नाम, यूएएन और जन्मतिथि लिखी होती है। इसमें आपको अपने यूएएन अकाउंट में लॉगिन करने के लिए एक पासवर्ड डालना होता है और साथ ही अपनी ई मेल आईडी भी डालनी होती है। इसके बाद सबमिट बटन पर क्लिक करते ही आपको एक ई मेल चला जाएगा, जिसमें एक्टिवेशन लिंक होता है। अपनी ई मेल आईडी में जाकर उस लिंक पर क्लिक करें। क्लिक करते ही ईपीएफओ की वेबसाइट का एक पेज खुलेगा, जिस पर ई मेल आईडी कन्फर्मेशन का मैसेज मिल जाएगा।

लॉगिन करें

अपने यूएएन और पासवर्ड के साथ लॉगिन करें। लॉगिन करने के लिए http://uanmembers.epfoservices.in/ इस लिंक पर क्लिक करें। यहां अपना यूएएन और पासवर्ड डालें और लॉगिन बटन पर क्लिक करें। क्लिक करते ही आपके सामने एक पेज खुल जाएगा, जो आपके अकाउंट का पेज होता है।
अपने अकाउंट में आ जाने के बाद आप अपना यूएएन कार्ड और पासबुक डाउनलोड कर सकते हैं। पास बुक के जरिए आप देख सकते हैं कि आपके पीएफ अकाउंट में कितने पैसे हैं। साथ ही इसमें आपकी मेंबर आईडी और इस्टेबलिशमेंट कोड भी लिखा होता है। इससे आप मोबाइल नंबर, ई-मेल आईडी और पासवर्ड भी बदल सकते हैं।

ट्रांसफर क्लेम

फिलहाल ईपीएफओ की वेबसाइट पर यह टैब एक्टिवेट नहीं है, जिसे जल्द ही एक्टिवेट किया जाएगा।

 जानिए कैसे निकाला जाता है PF का पैसा
पीएफ हर कर्मचारी के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण चीज है, क्योंकि इस पर अच्छा ब्याज तो मिलता ही है, साथ ही इनकम टैक्स में भी छूट मिलती है और भविष्य के लिए बचत भी होती है। पहले जब भी कोई व्यक्ति कंपनी छोड़ता था, तो वह पीएफ के पैसे निकालता था। हालांकि, अब पैसे निकालना अनिवार्य नहीं है, क्योंकि 1 जनवरी 2014 से सभी को यूएएन नंबर दे दिया गया है, जिसे आज से ऑनलाइन भी कर दिया गया है। यह नंबर कोई भी कर्मचारी अपने एचआर से पता कर सकता है।

यूएएन नंबर मिल जाने के बावजूद कई बार कुछ लोगों को नौकरी छोड़ने पर पीएफ के पैसों की जरूरत होती है, लेकिन उन्हें यह नहीं पता होता है कि आखिर पीएफ निकालने की प्रक्रिया क्या है। आज moneybhaskar.com आपको बता रहा है कि किस तरह से नौकरी छोड़ने पर पीएफ का पैसा निकाला जा सकता है। आइए जानते हैं कैसे निकाला जाता है पीएफ का पैसा-

1- पीएफ का पैसा निकालने के लिए आवेदन के लिए आपको नौकरी छोड़ने के बाद 2 महीने तक इंतजार करना होता है। इसका मतलब हुआ कि यदि 31 अक्टूबर आपका आखिरी वर्किंग डे है, तो आप इसके 2 महीने बाद 31 दिसंबर 2014 के बाद ही पीएफ निकालने के लिए अपने पुराने ऑफिस में आवेदन कर सकते हैं।
2- ऑफिस से आपको दो फॉर्म दिए जाते हैं, पहला है फॉर्म-19 और दूसरा है फॉर्म-10c. इन दोनों फॉर्म को जमा करके ऑफिस के एचआर के पास जमा करना होता है। इस फॉर्म में आपको अपना अकाउंट नंबर, मोबाइल नंबर, नाम और पता जैसी जानकारियां भरनी होती हैं और 1 रुपए के दो रिवेन्यू स्टैम्प फॉर्म में दी जगह पर लगाने होते हैं।

इस फॉर्म को कंपनी के अधिकारियों द्वारा वैरिफाई किया जाता है, जिसमें आपकी जानकारियों की जांच की जाती है। सामान्यतया इस वैरिफिकेशन में मामूली समय लगता है, लेकिन यदि फॉर्म अधिक हों तो समय अधिक भी लग सकता है।
3- एम्प्लॉयर द्वारा वैरिफाई करने के बाद इन दोनों फॉर्म को ईपीएफओ के ऑफिस में जमा करना होता है। इसे कर्मचारी खुद भी ले जाकर जमा कर सकता है। यदि वह खुद नहीं जाना चाहता, तो कंपनी को इसके बारे में कह सकता है और कंपनी इन दोनों फॉर्म को खुद ही ईपीएफओ ऑफिस में जमा कर देती है।

ईपीएफओ कार्यालय में भी इन दोनों फॉर्म का वैरिफिकेशन किया जाता है। इस वैरिफिकेशन में आपका अकाउंट नंबर, हस्ताक्षर, कंपनी के अधिकारी के हस्ताक्षर आदि की जांच की जाती है। वैरिफिकेशन पूरी होने के बाद ईपीएफओ के अधिकारी फॉर्म को आगे की प्रक्रिया के लिए फाइनेंस डिपार्टमेंट में भेज देते हैं।
4- इसके कुछ दिनों बाद पैसा आपको भेज दिया जाता है। यह पैसा सीधे आपके अकाउंट में ट्रांसफर कर दिया जाता है। यदि आप चाहे तो इसे आपको कूरियर द्वारा भी भेजा जा सकता है। इसके लिए आपको फॉर्म में पहले से ही बताना होगा कि पैसे कूरियर द्वारा चाहिए या फिर सीधे अकाउंट में।

ईपीएफओ ऑफिस से वैरिफाई हो जाने के कम से कम 7 दिन बाद आपको पैसे भेज दिए जाते हैं। आपको पैसे मिलने में अधिकत समय 45 दिन भी लग सकता है।

5- ये भी जानें-

=> यदि आपने 1 जनवरी 2014 के पहले किसी कंपनी को से नौकरी छोड़ दी है तो आपको यूएएन नंबर नहीं मिलेगा, क्योंकि 1 जनवरी 2014 के बाद ही इसे कर्मचारियों को दिया गया है।

=> यूएएन नंबर न होने की स्थिति में आप अपना पीएफ का पैसा नई कंपनी के अकाउंट में ट्रांसफर करवा सकते हैं, या फिर उसे निकाल सकते हैं।

=> पीएफ का पैसा निकालने के लिए एम्प्लॉयर के द्वारा वैरिफिकेशन की जरूरत होती है। पीएफ का पैसा निकालत समय आपको अपनी आखिरी कंपनी से वैरिफिकेशन की प्रक्रिया पूरी करनी होती है।
=> यदि कंपनी बंद हो जाए या फिर भाग जाए तो भी कंपनी के वैरिफिकेशन की जरूरत नहीं होती है। इस स्थिति में ग्राम प्रधान या इलाके के मेयर से हस्ताक्षर करवा के भी वैरिफिकेशन करवा सकते हैं।

=> यदि आप किसी दूसरे शहर में चले गए हैं, लेकिन कंपनी वहीं है तो आप उसी शहर से पीएफ के पैसे निकाल सकते हैं।
=> यदि आप दूसरे शहर में दूसरी कंपनी में गए हैं तो आपको उसी शहर से पैसे मिलेंगे, जहां पर पुरानी कंपनी है।

=> अपने पीएफ के पैसों की डीटेल जानने के लिए ई पासबुक जनरेट की जा सकती है।

कितने साल बाद और कब निकाल सकते हैं PF का पूरा पैसा

पीएफ की राशि को इमरजेंसी की स्थिति में निकाला जा सकता है। 7 परिस्थितियों में आप पीएफ की राशि को निकाल सकते हैं। कुछ परिस्थितियों में आप पीएफ का पूरा हिस्सा निकाल सकते हैं और कुछ में पीएफ के कुल पैसे का एक निश्चित हिस्सा ही निकाला जा सकता है। आइए जानते हैं कौन सी हैं ये 7 परिस्थितियां, जिनमें पीएफ की राशि को निकाला जा सकता है-

1- मेडिकल ट्रीटमेंट-

=> आप अपने, पत्‍नी के, बच्‍चों के या फिर माता-पिता के इलाज के लिए भी पीएफ विद्ड्रॉ कर सकते हैं।

=> इस स्थिति में आप कभी भी पीएफ विद्ड्रॉ कर सकते हैं यानी ये आवश्‍यक नहीं है कि आपकी सर्विस कितने समय की हुई है।

=> इसके लिए एक महीने या उससे अधिक तक अस्पताल में भर्ती होने का सबूत देना होता है।

=> साथ ही इस समय के लिए इंप्लॉयर के द्वारा अप्रूव लीव सर्टिफिकेट भी देना होता है।

=> पीएफ के पैसों से मेडिकल ट्रीटमेंट लेने के लिए व्यक्ति को अपने इंप्लॉयर या फिर ईएसआई के द्वारा अप्रूव एक सर्टिफिकेट भी देना होता है। इस सर्टिफिकेट में यह घोषणा की गई होती है कि जिसे मेडिकल ट्रीटमेंट चाहिए, उस तक ईएसआई की सुविधा नहीं पहुंचाई जा सकती या फिर उसे ईएसआई की सुविधा नहीं दी जाती है।

=> इसके तहत पीएफ का पैसा निकालने के लिए फॉर्म 31 के तहत आवेदन करने के साथ-साथ बीमारी का सर्टिफिकेट या की अन्य ऐसा डॉक्युमेंट देना होता है, जिससे सत्यता की जांच की जा सके।

=> मेडिकल ट्रीटमेंट के लिए कोई भी व्यक्ति अपनी सैलरी का 6 गुना या फिर पूरा पीएफ का पैसा, जो भी कम हो, निकाल सकता है।
2- एजुकेशन/ शादी-

=> अपनी या भाई-बहन की या फिर अपने बच्‍चों की शादी के लिए पीएफ की राशि को निकाला जा सकता है।

=> आप अपनी पढ़ाई या फिर बच्‍चों की पढ़ाई के लिए भी पीएफ की राशि को निकाल सकते हैं।

=> इसके लिए कम से कम 7 साल की नौकरी हो जानी चाहिए।

=> संबंधित कारण का सबूत आपको देना होगा।

=> एजुकेशन के मामले में आपको अपने इंप्लायर के द्वारा फॉर्म 31 के तहत आवेदन करना होता है। आप पीएफ निकालने की तारीख तक कुल जमा का 50 प्रतिशत पीएफ ही निकाल सकते हैं।

=> एजुकेशन के लिए पीएफ का इस्तेमाल कोई भी व्यक्ति अपने पूरे सेवाकाल में सिर्फ तीन बार कर सकता है।

3- प्‍लॉट खरीदने के लिए

=> प्लॉट खरीदने के लिए पीएफ का पैसा इस्तेमाल करने के लिए आपकी नौकरी का समय 5 साल पूरा हो चुका होना चाहिए।

=> प्‍लॉट आपके, आपकी पत्‍नी के या दोनों के नाम पर रजिस्‍टर्ड होना चाहिए।

=> प्लॉट या प्रॉपर्टी किसी प्रकार के विवाद में फंसी नहीं होनी चाहिए और न ही उस पर कोई कानूनी कार्रवाई चल रही होनी चाहिए।

=> प्लॉट खरीदने के लिए कोई भी व्यक्ति अपनी सैलरी का अधिकतम 24 गुना तक पीएफ का पैसा निकाल सकता है।

=> इस तरह की स्थिति में आप अपनी नौकरी के कुल समय में सिर्फ एक ही बार पीएफ का पैसा निकाल सकते हैं।
4- घर बनाने या फ्लैट

इस तरह की स्थिति में आपकी नौकरी के 5 साल पूरा होना आवश्‍यक है। इसके तहत कोई भी व्यक्ति अपनी सैलरी का अधिकतम 36 गुना तक पीएफ का पैसा निकाल सकता है। इसके लिए अपनी नौकरी के सयम के दौरान सिर्फ एक बार ही पीएफ के पैसों का इस्तेमाल किया जा सकता है।


5- रि-पेमेंट ऑफ होम लोन

इसके लिए आपकी नौकरी के 10 साल होना चाहिए। इसके तहत कोई भी व्यक्ति अपनी सैलरी का अधिकतम 36 गुना तक पीएफ का पैसा निकाल सकता है। इसके लिए अपनी नौकरी के सयम के दौरान सिर्फ एक बार ही पीएफ के पैसों का इस्तेमाल किया जा सकता है।


6- हाउस रिनोवेशन

इस स्थिति में आपके की नौकरी के कम से कम 5 साल पूरे होने चाहिए। इसके तहत कोई भी व्यक्ति अपनी सैलरी का अधिकतम 12 गुना तक पीएफ का पैसा निकाल सकता है। इसके लिए अपनी नौकरी के सयम के दौरान सिर्फ एक बार ही पीएफ के पैसों का इस्तेमाल किया जा सकता है।
7- प्री-रिटायरमेंट

इसके लिए आपकी उम्र 54 वर्ष होनी चाहिए। इस स्थिति में आप कुल पीएफ बैलेंस में से 90प्रतिशत तक की रकम निकल सकते हैं, लेकिन यह विद्ड्रॉ सिर्फ एक ही बार किया जा सकता है।

पीएफ विद्ड्रॉ टैक्‍सेबल है या नहीं

यदि आप लगातार सर्विस के दौरान 5 साल से पहले पीएफ विद्ड्रॉ करते हैं तो यह टैक्‍सेबल होगा। यहां लगातार सर्विस से मतलब ये नहीं है कि एक ही संस्‍था में 5 साल तक सर्विस होना। आप सर्विस बदल सकते हैं और कोई भी संस्‍था ज्‍वाइन कर सकते हैं। आप अपने पीएफ अकांउट को नए एम्‍पलॉयर को ट्रांसफर  कर सकते हैं।

जानें पीएफ कोड में किसका क्या है मतलब

यदि आपका पीएफ कोड UP/12345/123 है, तो इसमें UP से मतलब है कि आपका अकाउंट उत्तर प्रदेश (UP) में मेंटेन किया जाता है। इसके बाद का नंबर (12345) इस्टेबलिशमेंट कोड कहा जाता है, जो अधिकतर 7 अंकों का हो सकता है। अन्त का कोड (123) अकाउंट नंबर होता है।

इस्टेबलिशमेंट कोड

अगर कंपनी द्वारा इस्टेबलिशमेंट कोड नहीं मिला है, तो आप ईपीएफओ की वेबसाइट से भी कंपनी का इस्टेबलिशमेंट कोड जान सकते हैं। (साभार- दैनीक भाष्कर)

Wednesday, 16 July 2014

इस तरह सुलझ सकती हैं आपकी समस्याएं !

 व्यर्थ की समस्याओं में उलझकर ऊर्जा नष्ट न करें

 उन समस्याओं की सूची बनाएं, जिन्हें आप सुलझा सकते हैं या इसकी कोशिश कर सकते हैं। अब सिर्फ इन्हीं पर ध्यान दें। इन्हें सुलझाने के लिए जोर-शोर से जुट जाएं।  हम सभी के जीवन में मुश्किलें हैं। चाहे कैब ड्राइवर हो या करोड़ों की कंपनी का सीईओ, सब की अपनी मुश्किलें हैं। यदि आप गृहणी हैं ता सिर्फ आप ही जान सकती हैं कि रोज किन मुश्किलों से दो-चार होती हैं। यदि आप छात्र हैं तो आप ही जान सकते हैं कि छात्रों की जिंदगी कितनी मुश्किल है, खासकर जब इम्तहान सामने हों।
 
सभी मुश्किलों को दो वर्ग में बांटा जा सकता है:-
 
    या तो आप इसे सुलझाने के लिए कुछ कर सकते हैं या कुछ भी नहीं कर सकते हैं। कॉलेज के दिनों में मैं अपने कद को लेकर चिंतित रहता था। मुझे हैरानी होती कि मैं अपने पिता की तरह लंबा क्यों नहीं हूं। कई साल तक यह सवाल मुझे परेशान करता रहा। फिर एक बार मैंने अपने आप से पूछा, 'क्या मैं अपने कद के बारे में कुछ कर सकता हूं? यकीनन नहीं। मैंने महसूस किया कि मैं ऐसी समस्या को लेकर परेशान था, जिसका मैं कुछ नहीं कर सकता था। मैंने तय किया कि अब इसके बारे में सोचकर वक्त बर्बाद नहीं करूंगा। मैंने यह भी अहसास किया कि मैं बेकार के सवाल से परेशान था। और मुझे ऐसी समस्याओं के बारे में सोचकर समय खराब नहीं करना चाहिए। इसकी बजाय मुझे एक्सरसाइज करना चाहिए। मैंने एक्सरसाइज के लिए वक्त बढ़ा दिया। मुझे एक कविता याद आई,
 
सूरज की किरणों में हर बीमारी के लिए
या तो उपाय है या नहीं है,
यदि है तो उसे ढूंढऩे की कोशिश करो
यदि नहीं है तो चिंता मत करो।

   जरा उन शख्सियतों पर नजर डालें जिन्होंने कामयाबी का शिखर छुआ है। इन सभी ने हमेशा अपने सकारात्मक पक्ष या ताकत पर ध्यान दिया और उन मुद्दों और समस्यायों की चिंता करने में वक्त बर्बाद नहीं कया, जिन पर उनका नियंत्रण नहीं है। एआर रहमान ने अपने रंग की चिंता नहीं की बल्कि उनका ध्यान सिर्फ संगीत पर रहता है। लता मंगेशकर को इससे मतलब नहीं होता कि वे कैसी दिख रही हैं, उनका ध्यान सिर्फ और सिर्फ गायन पर है। यदि सचिन तेंडुलकर अपने कद की चिंता में खोए रहते तो वे कभी भी महान क्रिकेटर और दुनिया के करोड़ों लोगों की प्रेरणा नहीं बन सकते थे। यदि मशहूर वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग भगवान से यही पूछते रहते, 'आपने मुझे शाररीक रूप से अक्षम क्यों बनाया?’ तो वे वह सम्मान कभी भी हासिल नहीं कर पाते, जैसा कर पाए। उन्होंने ऐसा सवाल करने की बजाय अपनी प्रतिभा को पहचान कर उसी दिशा में काम किया।

आप अपने जीवन पर नजर दौड़ाएं। क्या आप ऐसे मुद्दों और समस्याओं पर वक्त और ऊर्जा बर्बाद कर रहे हैं, जिन पर आपका वश नहीं है। ऐसी सभी समस्याओं को अपनी सूची से हटा दें, जिन्हें आप नहीं सुलझा सकते, या जो आपके वश से बाहर हैं। सिर्फ उन मुद्दों या समस्याओं की सूची बनाएं, जिन्हें आप सुलझा सकते हैं या सुलझाने की कोशिश कर सकते हैं। अब सिर्फ इन्हीं पर ध्यान दें। जोरशोर से जुट जाएं। इन समस्याओं को सुलझाने के लिए पूरी ताकत झोंक दें। जल्दी ही आपको अहसास हो जाएगा कि अब आप अपनी जिंदगी बर्बाद नहीं कर रहे बल्कि उसे सार्थक बना रहे हैं। कौन जाने? आपकी सोच में यह बदलाव आपको कितना बदल दे? हो सकता है कि आपके दुनिया छोडऩे के बाद पोते-पड़पोते आपके बारे में इतिहास की किताब में पढ़ें। ( साभार- दैनिक भाष्कर )



आप अधिक जानकारी इस पत्रिका से ले सकते हैं.............
इंफीनीमैगजीन-
महात्रया रा आध्‍यात्‍मिक गुरु हैं। वे देश-विदेश में अपने आध्‍यात्‍मिक व्‍याख्‍यानों के माध्‍यम से लोगों को सेल्‍फ रियलाइजेशन के लिए मार्गदर्शित करते हैं। उनके प्रभावी संदेश व्‍यक्‍ति की नकारात्‍मक ऊर्जा को सकारात्‍मक ऊर्जा में परिवर्तित करके जीवन की दिशा बदल देते हैं। उनके व्‍याख्‍यान सुनकर कई प्रसिद्ध हस्‍तियां, बिजनेसमैन, स्‍पोटर्सपर्सन और स्‍टूडेंट़स अपनी आंतरिक ऊर्जा की मदद से नई ऊंचाइयां प्राप्‍त कर चुके हैं। महात्रया रा जीवन जीने का एक नया रास्‍ता बताते हैं – ‘इंफीनीथीज्‍म’, जिसके माध्‍यम से मनुष्‍य को अपनी असीम क्षमता का अहसास हो सकता है।

इंफीनीमैगजीन प्रेरक कहानियों, उद्धरणों, विकासोन्मुख पोस्टरों और महान व्यक्तियों के विचारों से बनी है। दुनिया पर अमिट छाप छोड़ने वाले अलग-अलग पृष्ठभूमि के महान लोगों और बिना कुछ बोले विपरीत हालात में महान ऊंचाइयां छूने वाले लोगों पर नियमित कॉलम्स हैं। यह मैगजीन पाठकों को विपरीत हालात से जूझने के लिए प्रेरित करती है। इंफीनीमैगजीन के माध्‍यम से महात्रया रा लोगों को अपनी पूरी क्षमता और वो ऊंचाइयां हासिल करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं, जहां तक वे अधिकारपूर्वक पहुंच सकते हैं। http://infinimagazine.com/
 

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...