Wednesday, 2 April 2008

देखिये ये है आपके ब्लाग भ्रमण के सबूत

संगणित भूमंडल की अद्भुत सृष्टि हैं चिट्ठे। इन चिट्ठों के पूरी दुनिया के कई भाषाओं में अपने-अपने तपोवन हैं। इनमें से हिंदी भाषा में मेरे तीन तपोवन हैं- चिंतन, हमारावतन-हमारासमाज और कालचिंतन। इन्हीं तपोवन में विचरते रहते हैं आज के पाठक परिव्राजक। मेरे जेहन में सवाल उठा कि कितना महत्वपूर्ण है इन तपोवनों में पाठक परिव्राजकों का परिभ्रमण। महाकाव्यकालीन भारत में इन तपस्वियों ने तपोवनों को एक आदर्श व पावन भूमि बना डाला था। तब तपोवन को तपस्वियों और परिव्राजकों दोनों ने पर्याप्त योगदान दिया था। आज हम संगणित दुनिया के जीव हैं फिर भी चिट्ठों के तपोवन की मर्यादा हमसे ही है। आज भी चिट्ठों के संदर्भ तपस्वियों और परिव्राजकों की भूमिका उतनी ही महत्वपूर्ण है। इन्हीं कारणों से मैंने पाठक परिव्राजकों की महत्वपूर्ण भूमिका पर विचार करने की ठानी। सोचा ऐसा तभी संभव है जब पाठक परिव्राजक इन तपोवनों में विचरण के अपने सबूत छोड़ जाएं। इन्हीं दस्तावेजों को जुटाना शुरू किया तो पता चला कि वे परिव्राजक धन्यवाद व आभार जताने के पात्र हैं जिन्होंने मेरे चिट्ठे पर अपने भ्रमण के सबूत छोड़े हैं। इस लिहाज से चिट्ठों की उपयोगिता और गंभीरता भी काबिले तारीफ है।

दरअसल ब्लागिंग ने अभिव्यक्ति का वह साधन मुहैया कराया है जो लेखक और पाठक दोनों को समान रूप से हासिल है। अगर आप कोई पत्रिका, उपन्यास, कहानी या कविता पढ़ते हैं तो नतो उस लेखक से तुरंत संपर्क कर सकते हैं और न ही लिखित तौर पर कोई नाराजगी जाहिर कर सकते हैं। मगर ब्लाग पर आप किसी लेखक से तुरंत सहमति या असहमति जाहिर करते हैं। जितना सशक्त तरीके लेखक अपनी बात रखता है आप भी अपनी टिप्पणी उतनी ही आजादी से दर्ज कर सकते हैं। यह आजादी लेखन की दुनिया में और कहीं भी उपलब्ध नहीं है। इस लिहाज से ब्लाग अभिव्यक्ति का ज्यादा पारदर्शी और लोकतांत्रिक माध्यम है। ब्लाग पर टिप्पणियों और नोंकझोक ने वह दस्तावेज भी तैयार किया है जो साबित करता है कि आप सभलकर लिखिए ब्लाग अन्यथा आप की धज्जियां भी उड़ सकती हैं। इन्हीं दस्तावेजों ने मुझे यह पोस्ट तैयार करने को प्रेरित किया है। मैं आभार जताना चाहता हूं उन पाठकों का जो सिर्फ पढ़ना नहीं बल्कि सहमति और असहमति भी दर्ज कराना जरूरी समझते हैं। इस पोस्ट में एक साल के भीतर मेरे ब्लाग पर उन अधिकतर पाठकों की उपस्थिति को दस्तावेज के तौर पर डाला है जिससे वे भी मेरे ब्लाग के इस एक साल के इतिहास का हिस्सा बन पाएं।


बहरहाल समय का चक्र घूमकर वहां पहुंच गया है जहां इस ब्लागर ने अपने एक साल पूरे कर लिए हैं। हिंदी ब्लागिंग के उस दौर से यह सफर शुरू हुआ जब नारद या इक्का- दुक्का ब्लाग एग्रीगेटर पर ४००-५०० के आसपास ब्लागर जमे हुए थे। अब यह तादाद तीन हजार के पार है। ब्लागिंग का यह इतिहास उस दौर से गुजर रहा है, जहां नित नए प्रयोग भी जारी हैं। मसलन समूह ब्लाग का चलन ज्यादा ही हो गया है। ब्लागिंग कमाई का जरिया भी बन गया है। लिखने की मर्यादा पर भी सवाल उठाए जाने लगे हैं। ब्लाग लेखन को एक समानान्तर मीडिया का दर्जा भी हासिल हो गया है। हिंदी साहित्य के अलावा विविध विषयों पर विशेषज्ञ की हैसियत से भी ब्लाग रचे गए हैं। विज्ञान, सूचना तकनीक, स्वास्थ्य और राजनीति वगैरह कुछ भी अछूता नहीं है। यह विस्तार इस ब्लागर ने बीते एक साल में देखे हैं। विविध विषयों पर टिप्पणी विस्तार से सूचना सहित देते हुए १०० के पार पोस्ट ब्लाग पर डाल चुका हूं। अब लिखता कम हूं मगर साथी ब्लागरों को पढ़ता ज्यादा हूं। इसी घुमक्कड़ी ने ब्लाग पर कई ऐसे मित्रों को रूबरू कराया जिनसे कई सालों से संपर्क नहीं था और न संपर्क की कोई उम्मीद थी। टिप्पणियों के युद्ध में कई से खरीखोटी भी सुननी पड़ी। कुल मिलाकर बहुत रोचक रहा एक साल का यह सफर। इस दौर में भड़ास का भी सदस्य बना। दरअसल शुरू से ही मेल पर यशवंतजी से बातचीत होती रहती थी। मैं उन्हें पत्रकारों का एक मंच बनाने का सुझाव देता रहता था। यह उनदिनों की बात है जब भड़ास अचानक किन्हीं कारणों से बंद हो गया था। जिन कारणों से मुझे आशंका थी कि ऐसा होगा, दरअसल कुछ भी उगल देने के उन्हीं कारणों ने यशवंत को मुश्किल में डाला।
जब दुबारा भड़ास अवतरित हुआ तो भी मैंने यशवंतजी से एक स्तरीय पत्रकार मंच बनाने का आग्र किया और इसी मकसद से भड़ास का सदस्य बन गया। दो-चार पोस्ट भी उसपर डाली। इस बात के लिए भड़ास का आभारी हूं कि मेरी एक पोस्ट-गांव को गांव ही रहने दो यारों- को १९ जनवरी २००८ को दैनिक भास्कर ने अपने राष्ट्रीय संस्करण के पेज नौ पर ब्लागउवाच कालम पर भड़ास की समीक्षा के तहत छापा ( एकाकी व्यक्तित्व को एक्सपोजर की चाहत शीर्षक से छपी सामग्री का पीडीएफ यहां ब्लाग पर पोस्ट के साथ दिया है )।

इसके बाद भड़ास के माडरेटर यशवंतजी ने इसकी सूचना पोस्ट की कि डा. मान्धाता सिंह की पोस्ट पर समीक्षा के बहाने भड़ास छा गया। निश्चित ही इसके बाद से भड़ास ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। आज की तारीख में तमाम संकटों को झेलते हुए अपने कुछ भी उगल देने के उसी अंदाज में छाया ही नहीं बल्कि सबसे बड़ा ब्लाग माना जाता है। मैं इस उगल देने की रवायत से पूरी तरह सहमत नहीं हूं मगर ठीक भी इस लिए मानता हूं क्यों कि पत्रकारिता की मठाधीशी की दुनिया भीतर से इतनी ही गंदी है। यह बात अगर किसी को बुरी लगी हो तो क्षमा चाहूंगा।

जो हो मगर ब्लागिंग में कुछ ऐसा मन रमा कि विचार व्यक्त करते-करते अपनी ब्लागिंग की संघर्ष गाथा ही लिख डाली। जब इसे पोस्ट किया तो ढेर सारी शुभकामनाएं मिलीं। संभवतः रविरतलामीजी को लगा कि इस गाथा को और भी लोगों तक पहंचाया जाना चाहिए। उन्होंने मेल भेजा कि इस वे पुनः प्रकाशित करेंगे। ब्लागिंग के ऐसे महायोद्धा का आमंत्रण कैसे नहीं मानता। मान लिया और आभार भी जताया। मेरी संघर्ष गाथा रविजी की टिप्णी के साथ यहां देखें --( http://raviratlami.blogspot.com/2008/02/blog-post_29.html)।

रविजी ने यह मेल भेजा था-----------।

On 19/02/2008, *Ravishankar Shrivastava* raviratlami@gmail.com

mailto:raviratlami@gmail.com wrote:

धन्यवाद. मैं आपके ब्लॉग लेखन की संधर्ष गाथा से प्रभावित हूं. इसे लोगों के उत्साह वर्धन के लिए अपने चिट्ठे पर डालना चाहूंगा. कृपया अनुमति देंगे.

डॉ. मान्धाता जी,
आपका आलेख यहाँ पर पुनर्प्रकाशित किया है-
http://raviratlami.blogspot.com/2008/02/blog-post_29.html
धन्यवाद.
रवि

इसके बाद यह मेल भेजकर आभार जताया

नमस्कार रविजी
जब ब्लागिंग सीख रहा था तब मदद के लिए रवि रतलामी, श्रीश, घुघुती बासूती, काकेश के हाथ बढ़े थे। आज फिर आपने मेरी संघर्षगाथा अपने ब्लाग पर प्रकाशित करके मेरा उत्साह वर्धन किया है। आभारी हूं। धन्यवाद।

संतों मैं आप सभी का भी आभारी हूं

आभारी मैं उन सभी ब्लागर बंधुओं का भी हूं जिन्होंने किसी भी तरह मेरा उत्साहवर्धन किया। यह पोस्ट आप सभी का आभार जताने और आपके सम्मान की खातिर डाल रहा हूं। रविजी के मेल के विवरण के साथ पूरी कहानी कुछ इस तरह है। ब्लागिंग इतिहास के इन सभी घटनाओं व किरदारों का फिर कभी मौका मिला तो अलग से लिखूंगा रोमांचक इतिहास । फिलहाल सिर्फ दस्तावेज ही देखिए।

यहां से शुरू हुआ था सफर

तब ब्लागस्पाट डाटकाम पर सिर्फ चिंतन ब्लाग था। बाद में इसमें एक और ब्लाग हमारावतन-हमारासमाज जुड़ा। नीचे चिंतन और हमारावतन-हमारासमाज पर आप की उपस्थिति के वही दस्तावेज दिखेंगे जिन्हें मैं बटोर पाया हूं। बहुत सारा छूटा भी है। अब आप इन्हें देखिए और पहचानिए अपने निशान। आखिर में तीसरे ब्लाग कालचिंतन पर उपस्थिति के सबूत दिए हैं। पहले ब्लागस्पाट के दोनों ब्लागों पर आप सभी के पदचाप----------

अक्षरग्राम पर यह मदद मांगी थी।---------

मैं हिंदी पत्रकार हूँ । खबरों की दुनिया में तो रहता ही हूँ इसी लिए अब अपने विचारों को लेकर अक्षरग्राम के चिट्ठाकारों से भी जुडना चाहता हूँ। खबर उनकी भी लेनी है जिन्होंने अपने विचारों से अक्षरग्राम में धूम मचा रखी है। मैं काशी का रहने वाला हूँ। और अब कोलकाता में पत्रकारिता कर रहा हूँ। हिंदी पत्रकार हूँ इस लिए हिंदी जगत से जुडना मेरी हाबी है। आपलोगों का सानिध्य पाकर मुझे बड़ी ख़ुशी होगी।
धन्यवाद
डा.मान्धाता सिंह
कोलकाता
Posted by डा.मान्धाता सिंह at 8:37:00 AM
Labels: chitthakaaron

इसके बाद इस तरह स्वागत हुआ।-------
---------------------------------------------


Mired Mirage said...
आपका स्वागत है, किन्तु कृपया हमारी खबर मत लीजियेगा, हमने कुछ नहीं किया है ।
घुघूती बासूती


June 6, 2007 9:47 AM काकेश said...
स्वागत है आपका... कोलकता से अपना पुराना रिश्ता रहा है.. आशा है आपसे अच्छा कुछ सुनने को मिलेगा.


June 6, 2007 9:51 AM Shrish said...
हिन्दी चिट्ठाजगत में आपका स्वागत है मान्धाता जी। उम्मीद है अच्छी खबर लेंगे।

नए चिट्ठाकारों के स्वागत पृष्ठ पर भी जाएं।
http://akshargram.com/sarvagya/index.php/welcome


June 6, 2007 6:00 PM मोहिन्दर कुमार said...
स्वागत है चिट्ठा जगत में आपका...
अब तो अक्सर मिलते रहेंगे


June 7, 2007 12:47 AM डा.मान्धाता सिंह said...
धन्यवाद मित्रों । नया ब्लॉगर हूँ। पंजीकृत होते ही आप लोगों ने स्वागत की जो तत्परता दिखायी उससे मैं और भी उत्साहित हूँ। मिलते रहेंगे।

मान्धाता

Shrish said... This post has been removed by the author. May 6, 2007 1:24 AM Shrish said...
हिन्दी चिट्ठाजगत में आपका स्वागत है। हिन्दी (देवनागरी) में लिखना अत्यंत आसान है। हिन्दी टाइपिंग और ब्लॉगिंग संबंधी संपूर्ण जानकारी सर्वज्ञ विकी पर उपलब्ध है। सभी हिन्दी ब्लॉगों को आप नारद पर पढ़ सकते हैं।

मेरे विचार से आप अब तक नारद से नहीं जुड़े हैं। यदि आप चाहते हैं कि अन्य हिन्दी पाठक आपके ब्लॉग को पढ़ें तो नारद पर अपना ब्लॉग रजिस्टर करें।

नए चिट्ठाकारों के स्वागत पृष्ठ पर भी अवश्य जाएं।

किसी भी प्रकार की सहायता हेतु निसंकोच संपर्क करें।

ई-पंडित: http://ePandit.blogspot.com


May 6, 2007 1:30 AM Dr. Mandhata Singh said...
shrishji
namaskar

madad ke liye dhanyavad.

mandhata


May 16, 2007 7:38 AM Dr. Mandhata Singh said...
shrishji
namaskar
aapke sujhava par narad par apane blog ko darj karna chaha magar usmein 2 2 mein kya bharein samajha mein nahi aaya. kya karna hoga agar mail karke batayein to badi kripa hogi. hindi mein comment kaise karein yah bhi tarika batane ki kripa karein.
mera mail-drmandhata@gmail.com

dhanyavad
mandhata


और इस के बाद आपके पदचाप मेरे ब्लाग पर इस कदर बिखरे हैं


Reetesh Gupta ने आपकी प्रविष्टि पर नई टिप्पणी दी है "मधुमेह : कुछ देसी नुस्खे और योग":

इस लाभदायक जानकारी के लिये आपका हार्दिक धन्यवाद...

11 जून, 2007 1:59 अपराह्न को Reetesh Gupta द्वारा चिन्तन को प्रविष्टित
अनुनाद सिंह ने आपकी प्रविष्टि पर नई टिप्पणी दी है "धर्मांतरण":

आपके लेख काफी संतुलित हैं और पक्षपात से रहित हैं।



11 जून, 2007 9:30 अपराह्न को अनुनाद सिंह द्वारा चिन्तन को प्रविष्टित
हरिराम ने आपकी प्रविष्टि पर नई टिप्पणी दी है "मधुमेह : कुछ देसी नुस्खे और योग":

आपने बहुत उपयोगी जानकारियों संग्रहीत करके प्रकाशित कीं हैं। धन्यवाद। मधुमेह में चीनी के बदले मुलहठी (य़ष्टिमधु) का उपयोग करना एक रामबाण औषधि माना जाता है। कैंथ के पत्ते का रस एक चम्मच रोज सुबह पीया जाए तो 45 दिन में मधुमेह जड़ से खत्म हो सकता है।



11 जून, 2007 10:36 अपराह्न को हरिराम द्वारा चिन्तन को प्रविष्टित
Kavi Kulwant ने आपकी प्रविष्टि पर नई टिप्पणी दी है "मधुमेह : कुछ देसी नुस्खे और योग":

मधुमेह के लिए मेरे पास एक प्राकृतिक दवा है, जिसके लगभग एक माह के सेवन से इसका स्थाई इलाज संभव है। यह दवा मैं नि:शुल्क देता हूँ। कोई भी मुझे शाम 7-8 बजे के बीच संपर्क कर मुझसे यह दवा प्राप्त कर सकता है।
कवि कुलवंत सिंह 09819173477

अभय तिवारी ने आपकी प्रविष्टि पर नई टिप्पणी दी है "कांशीराम और अंबेडकर":

अच्छा तथ्यपरक लेख..



14 जून, 2007 8:09 अपराह्न को अभय तिवारी द्वारा चिन्तन को प्रविष्टित


12 जून, 2007 4:05 पूर्वाह्न को Kavi Kulwant द्वारा चिन्तन को प्रविष्टित
अभय तिवारी ने आपकी प्रविष्टि पर नई टिप्पणी दी है "कांशीराम और अंबेडकर":

नेट पर इस तरह की जानकारी अभी कम है.. सम्भव हो तो अम्बेदकर के लेखों को भी छापें..हिन्दी में अभी वो नेट पर कहीं नहीं हैं..



14 जून, 2007 8:11 अपराह्न को अभय तिवारी द्वारा चिन्तन को प्रविष्टित

Raviratlami ने आपकी प्रविष्टि पर नई टिप्पणी दी है "आज के दलित":

"...मंडल आयोग से पहले तक राजनीतिक पार्टियाँ सत्ता में आती थीं. मंडल आयोग की रिपोर्ट के सामने आने के बाद से अब जातियाँ सत्ता में आती है...."

सही ऑकलन है आपका. और, शायद अभिशप्त भारत का एक कड़वा सच भी!



14 जून, 2007 10:00 अपराह्न को Raviratlami द्वारा चिन्तन को प्रविष्टित
गिरीन्द्र नाथ झा ने आपकी प्रविष्टि पर नई टिप्पणी दी है "मायावती : दलितों की नई उम्मीद":

aapka blog jagat me swagat hai,
dar asal main pahli baar aapke blog pe aya hun..
sayad aab aana- jana laga rahega.
Girindra
www.anubhaw.blogspot.com
girindranath@gmail.com



17 जून, 2007 7:35 पूर्वाह्न को गिरीन्द्र नाथ झा द्वारा चिन्तन को प्रविष्टित
" JNuno ® " ने आपकी प्रविष्टि पर नई टिप्पणी दी है "उम्रदराज को ही मिलती है ऊंची कुर्सी !":

good blog



21 जून, 2007 3:26 अपराह्न को " JNuno ® " द्वारा चिन्तन को प्रविष्टित
Atul Sharma ने आपकी प्रविष्टि पर नई टिप्पणी दी है "'सेक्स ट्वाय' : कंडोम का नया अवतार":

बहुत ही तथ्यपरक जानकारी है। धन्यवाद।



22 जून, 2007 3:42 पूर्वाह्न को Atul Sharma द्वारा चिन्तन को प्रविष्टित

Raviratlami ने आपकी प्रविष्टि पर नई टिप्पणी दी है "गुर्जर महापंचायत की धमकी":

मंधाता जी,
आपका आलेख विचारोत्तोजक है.

अपने आलेख को छोटे-छोटे पैराग्राफ में तोड़ दें तो पठन-पाठन में सुविधा होगी. इसके लिए जहाँ पैराग्राफ तोड़ना है, वहाँ दो बार एन्टर बटन दबा दें.



25 जून, 2007 6:03 पूर्वाह्न को Raviratlami द्वारा चिन्तन को प्रविष्टित
शैलेश भारतवासी ने आपकी प्रविष्टि पर नई टिप्पणी दी है "बिहार की सड़कें या हेमामालिनी के गाल !":

महोदय,

आज पहली बार आपकी ब्लॉग पर आया हूँ। यहाँ सामग्री तो बहुत है लेकिन इस ब्लॉग की साज-सज्जा में थोड़ी कसर रह गई है। इसका अलंकरण करें। किसी मदद के लिए मैं तैयार हूँ। धन्यवाद।



1 जुलाई, 2007 10:58 पूर्वाह्न को शैलेश भारतवासी द्वारा चिन्तन को प्रविष्टित
जोगलिखी संजय पटेल की ने आपकी प्रविष्टि पर नई टिप्पणी दी है "मुझको मेरे बाद जमाना ढूँढेगा !":

हमारे अपने घर के बुज़ुर्गों की जो बेहाली हमने कर रखी है उसके चलते हम त्रिलोचन का मोल क्या जानेंगे....और यह भी नोट कर लें हम कि समय हम से भी जवाब मांगेगा...जो हमने बडे-बूढ़ों के साथ किया है उससे बदतर हमारे साथ होगा..हम में ही निहित है समाज,संगठन और सत्ता.हम सब भी दोषी हैं इन दुर्गतियों के लिये.



30 जुलाई, 2007 3:32 अपराह्न को जोगलिखी संजय पटेल की द्वारा चिन्तन को प्रविष्टित
अनूप शुक्ला ने आपकी प्रविष्टि पर नई टिप्पणी दी है "मुझको मेरे बाद जमाना ढूँढेगा !":

अच्छी तरह से सारे लेख संजोये हैं। त्रिलोचनजी के अच्छे स्वास्थ्य के लिये हम कामना करते हैं।



30 जुलाई, 2007 5:29 अपराह्न को अनूप शुक्ला द्वारा चिन्तन को प्रविष्टित

Shastri JC Philip ने आपकी प्रविष्टि पर नई टिप्पणी दी है "संकट में हैं 400 जड़ी-बूटियाँ":

हिन्दुस्तान की आयुर्वेदसंपदा के बारे में इस खबर के लिये शुक्रिया. इस विषय पर और जानकारी जरूर छापें -- शास्त्री जे सी फिलिप

हिन्दी ही हिन्दुस्तान को एक सूत्र में पिरो सकती है
http://www.Sarathi.info



1 अगस्त, 2007 8:26 अपराह्न को Shastri JC Philip द्वारा चिन्तन को प्रविष्टित
अनुनाद सिंह ने आपकी प्रविष्टि पर नई टिप्पणी दी है "संकट में हैं 400 जड़ी-बूटियाँ":

आप ने बहुत ही महत्वपूर्ण मुद्दे पर सबका ध्यान खींचा है। 'औषधीय पौधों की पत्तियाँ तो.दनी चाहिये, उन्हे जड़ से नहीं उखाड़ना चाहिये' यह एक छोटी बात है पर इसकी गहराई बहुत अधिक है; चिन्तनीय है।



2 अगस्त, 2007 4:55 पूर्वाह्न को अनुनाद सिंह द्वारा चिन्तन को प्रविष्टित
Isht Deo Sankrityaayan ने आपकी प्रविष्टि पर नई टिप्पणी दी है "संकट में हैं 400 जड़ी-बूटियाँ":

शुक्रिया. इस बात को थोडा जोर्दारी से उठाएं. कायदे से तो इसे एक आन्दोलन का रुप दिया जाना चाहिए.



2 अगस्त, 2007 6:44 पूर्वाह्न को Isht Deo Sankrityaayan द्वारा चिन्तन को प्रविष्टित
बोधिसत्व ने आपकी प्रविष्टि पर नई टिप्पणी दी है "मुझको मेरे बाद जमाना ढूँढेगा !":

भाई त्रिलोचन जी के परिजनों का पता और नंबर मिल सकता है क्या



3 अगस्त, 2007 7:40 पूर्वाह्न को बोधिसत्व द्वारा चिन्तन को प्रविष्टित
Shrish has left a new comment on your post "बांग्लादेशी लेखिका तसलीमा नसरीन से हाथापाई":

शर्मनाक, अतिथि देवो भव की परंपरा वाले देश में अतिथि के साथ ऎसा स‌लूक!



Posted by Shrish to हमारा वतन at August 11, 2007 10:50 PM
Mired Mirage has left a new comment on your post "एकजुट होइए या फिर पिटते रहिए":

अतुल जी यदि आप ऐसा सोचते है तो हममें से कौन ऐसा है जिसे पिटना नहीं चाहिये। जिस दिन पत्रकारिता पर बंदिशें लगेंगी उस दिन से हम सब भी स्वतंत्रता से नहीं जी सकेंगे । सो याद रखिये पत्रकारों पर हमला हमारी स्वयं की स्वतंत्रता पर हमला है ।
घुघूती बासूती



Posted by Mired Mirage to हमारा वतन at August 13, 2007 11:52 AM
Udan Tashtari has left a new comment on your post "बच्चा पैदा करने की मशीन समझ रखा है क्या ?":

कुछ कहने की स्थिती नही है...भीड़ के साथ सब मौन और....क्या!!!



Posted by Udan Tashtari to हमारा वतन at August 23, 2007 7:51 PM
अनूप शुक्ला has left a new comment on your post "बच्चा पैदा करने की मशीन समझ रखा है क्या ?":

बहुत दुखद सच !



Posted by अनूप शुक्ला to हमारा वतन at August 23, 2007 6:54 PM

bhuvnesh sharma has left a new comment on your post "बच्चा पैदा करने की मशीन समझ रखा है क्या ?":

यत्र नार्यस्तु पूजयन्ते वाले देश में ऐसा हो रहा है
पता नहीं हम किस कारण अपनी महान संस्कृति का ढिंढोरा पीटते हैं



Posted by bhuvnesh sharma to हमारा वतन at August 24, 2007 5:26 AM
Suresh Chiplunkar has left a new comment on your post "वेब दुनिया ब्लाग चर्चा":

वेबदुनिया का यह प्रयास सराहनीय है, गत दो-तीन वर्षों से मैंने भी वेबदुनिया के प्रिंट संस्करण (नईदुनिया) में लेख भेजना बन्द कर दिया, पता नहीं क्यों, मेरे लेख कचरे के डब्बे में पहुँचा दिये जाने लगे, फ़िर मुझे मिला "यूनिकोड" और मैने ब्लॉग शुरु किया, बस फ़िर क्या था, अब तो आकाश ही सीमा है, किसी का बन्धन नहीं, जो चाहे लिखो, कोई पढे या ना पढे, फ़िर भी वेबदुनिया ने बदलते जमाने के साथ 'ब्लॉग" पर चर्चा करने की ठानी है तो इससे कुछ भला ही होगा... शुभकामनायें...
http://sureshchiplunkar.blogspot.com



Posted by Suresh Chiplunkar to हमारा वतन at August 27, 2007 6:51 AM
परमजीत बाली has left a new comment on your post "वेब दुनिया ब्लाग चर्चा":

यह चिठ्ठाकारों के लिए एक अच्छा समाचार है।यदि ऐसा हो रहा है तो इस से चिठ्ठाकारों को बहुत प्रोत्साहन मिलेगा।



Posted by परमजीत बाली to हमारा वतन at August 27, 2007 10:56 AM
Udan Tashtari ने आपकी पोस्ट " ब्लोग्गिंग पर क्या है आपकी राय " पर एक टिप्पणी छोड़ी है:

हमारा url भी नजर में रखें कृप्या. :)

तीन दिन के अवकाश (विवाह की वर्षगांठ के उपलक्ष्य में) एवं कम्प्यूटर पर वायरस के अटैक के कारण टिप्पणी नहीं कर पाने का क्षमापार्थी हूँ. मगर आपको पढ़ रहा हूँ. अच्छा लग रहा है.



Udan Tashtari द्वारा चिन्तन के लिए 27 अगस्त, 2007 6:32 अपराह्न को पोस्ट किया गया
Nishikant Tiwari ने आपकी पोस्ट " ब्लोग्गिंग पर क्या है आपकी राय " पर एक टिप्पणी छोड़ी है:

लहर नई है अब सागर में
रोमांच नया हर एक पहर में
पहुँचाएंगे घर घर में
दुनिया के हर गली शहर में
देना है हिन्दी को नई पहचान
जो भी पढ़े यही कहे
भारत देश महान भारत देश महान ।
NishikantWorld



Nishikant Tiwari द्वारा चिन्तन के लिए 1 सितंबर, 2007 2:35 पूर्वाह्न को पोस्ट किया गया
Shrish ने आपकी पोस्ट " ब्लोग्गिंग पर क्या है आपकी राय " पर एक टिप्पणी छोड़ी है:

वैबदुनिया का यह प्रयास प्रशंसा के योग्य है। खुशी की बात है कि जो हिन्दी आम जीवन में सिमटती जा रही है वही नैट पर फैलती जा रही है।



Shrish द्वारा चिन्तन के लिए 1 सितंबर, 2007 7:01 पूर्वाह्न को पोस्ट किया गया
Rama ने आपकी पोस्ट " तब तो अवाम के कोप से आप भी नहीं बचोगे कामरेडों " पर एक टिप्पणी छोड़ी है:

किसी को आम जनता के हितों से कोई लेना देना नहीं है. हां यह जरूर है नित नए मुद्दे तलाश कर अपना उल्लू जरूर सीधा करते नजर आते हैं.



Rama द्वारा चिन्तन के लिए 4 सितंबर, 2007 2:55 अपराह्न को पोस्ट किया गया
arvind mishra has left a new comment on your post "तीन वरिष्ठ पत्रकारों को कारावास":

kya sachmuch sachhai vahi hai jo saamane aaie hai?
abhi aage bhi pyaj ki parat dar parat sachhaie aage aati jaayegi!
Han khabarnaveeson ko saavadhaan ho janaa chahiye .agali baar jab scoop theyn to pukhtaa p[ramaan bhi rakhen.



Posted by arvind mishra to हमारा वतन at September 4, 2007 7:08 PM

संजय बेंगाणी has left a new comment on your post "तब तो अवाम के कोप से आप भी नहीं बचोगे कामरेडों":

ऐसी ही रैली चीन के विरूध्ह भी निकालते तो मजा आ जाता, जब उसने अरूंणांचल को अपना हिस्सा बताया.



Posted by संजय बेंगाणी to हमारा वतन at September 4, 2007 9:57 PM
Vinod Khare has left a new comment on your post "यादगार बने कमाई के कूपन":

हिन्दी भाषा में किया जा रहा आपका ये प्रयास प्रशंसनीय है | एक बेहतरीन ब्लॉग चलने के लिए बधाई |



Posted by Vinod Khare to हमारा वतन at September 6, 2007 11:50 AM

Shastri JC Philip has left a new comment on your post "यादगार बने कमाई के कूपन":

आज पहली बार आपके चिट्ठे पर आया एवं आपकी रचनाओं का अस्वादन किया. आप स्पष्ट एवं सशक्त लिखते हैं -- शास्त्री जे सी फिलिप

मेरा स्वप्न: सन 2010 तक 50,000 हिन्दी चिट्ठाकार एवं,
2020 में 50 लाख, एवं 2025 मे एक करोड हिन्दी चिट्ठाकार!!



Posted by Shastri JC Philip to हमारा वतन at September 6, 2007 11:53 AM
sunita (shanoo) ने आपकी पोस्ट " रोक दीजिए नग्नता का यह प्रदर्शन " पर एक टिप्पणी छोड़ी है:

आप सही कह रहे है अश्लीलता को परिवर्तन का जामा पहना रहे है आजकल,और जब मै इसके खिलाफ़ टिप्पनी दे रही हूँ तो मुझे भी RSS वालो का खिताब मिल रहा है...मगर क्या फ़र्क पड़ता है जब जब हम इन सब बातों का विरोध करेंगे यह सब तो सुनना ही पडेगा...आपको एसा नही लगता दिल्ली की सड़के भी फ़ैशन शो से कम नजर नही आती...
चलिये करते है कोशिश शायद खुल कर विरोध करे तो इसपर रोक लग ही जायें...

सुनीता(शानू)



sunita (shanoo) द्वारा चिन्तन के लिए 6 सितंबर, 2007 11:58 पूर्वाह्न को पोस्ट किया गया
Vinod Khare ने आपकी पोस्ट " रोक दीजिए नग्नता का यह प्रदर्शन " पर एक टिप्पणी छोड़ी है:

मुझे नही लगता की फैशन शो अश्लीलता फैला रहे है| वस्तुतः इस तरह के आयोजन पश्चिमी सभ्यता से आ रहे हैं जो की इस तरह के कपड़ों को पेहेनना बुरा नही मानती| आपका यह कथन की ऐसे वस्त्र आम लोगों द्वारा पहने जाने लायक नही होते सत्य है| पर आप ये क्यों सोचरहे हैं की प्रदर्शन केवल पहने जाने योग्य वस्त्रों का ही होना चाहिए| वस्त्र बनाना एक कला है और किसी भी अन्य कला की तरह उसका मकसद आम लोगों की रोजमर्रा की जरूरते पूरा करना नही होता | उसका मकसद नए विचारो का विकास होता है | लोग क्या पेहेनते है और क्या नही ये उनका निजी मामला है | इस बारे में निर्णय करने वाले आप और मैं कौन होते हैं?



Vinod Khare द्वारा चिन्तन के लिए 6 सितंबर, 2007 12:07 अपराह्न को पोस्ट किया गया

Vinod Khare has left a new comment on your post "रोक दीजिए नग्नता का यह प्रदर्शन":

मुझे नही लगता की फैशन शो अश्लीलता फैला रहे है| वस्तुतः इस तरह के आयोजन पश्चिमी सभ्यता से आ रहे हैं जो की इस तरह के कपड़ों को पेहेनना बुरा नही मानती| आपका यह कथन की ऐसे वस्त्र आम लोगों द्वारा पहने जाने लायक नही होते सत्य है| पर आप ये क्यों सोचरहे हैं की प्रदर्शन केवल पहने जाने योग्य वस्त्रों का ही होना चाहिए| वस्त्र बनाना एक कला है और किसी भी अन्य कला की तरह उसका मकसद आम लोगों की रोजमर्रा की जरूरते पूरा करना नही होता | उसका मकसद नए विचारो का विकास होता है | लोग क्या पेहेनते है और क्या नही ये उनका निजी मामला है | इस बारे में निर्णय करने वाले आप और मैं कौन होते हैं?



Posted by Vinod Khare to हमारा वतन at September 6, 2007 12:09 PM

sunita (shanoo) has left a new comment on your post "रोक दीजिए नग्नता का यह प्रदर्शन":

सही लिखा है आपने हम और आप ही मिल कर कुछ करना ही पड़ेगा हमसे ही मिल कर समाज बना है अगर सभी सोचने लगे कि रहने दिजिये यह तो निजी मामला है सभी का हमे इससे क्या तो यह गलत होगा...जब बात सड़को पर आ जाये तो वह आम हो जाती है निजी नही रहती...



Posted by sunita (shanoo) to हमारा वतन at September 6, 2007 12:48 PM

उन्मुक्त has left a new comment on your post "रोक दीजिए नग्नता का यह प्रदर्शन":

इसे रोकना मुश्किल है। इसके अतिरिक्त आप इसे जितना रोकेंगे यह उतना बढ़ेगी। शायद अनदेखा करना ही उचित होगा।



Posted by उन्मुक्त to हमारा वतन at September 6, 2007 8:21 PM
Shastri JC Philip ने आपकी पोस्ट " रोक दीजिए नग्नता का यह प्रदर्शन " पर एक टिप्पणी छोड़ी है:

आप ने कहा "असल में यह आयोजन पूरी तरह अश्लील लगता है।"

लगता है नहीं इनका लक्ष्य ही अश्लीलता की मदद से अपना धंधा करना है. नग्नता का बाजारू प्रदर्शन भारतीय संस्कृति के विरुद्ध है, एवं इसका विरोध होना जरूरी है -- शास्त्री जे सी फिलिप

मेरा स्वप्न: सन 2010 तक 50,000 हिन्दी चिट्ठाकार एवं,
2020 में 50 लाख, एवं 2025 मे एक करोड हिन्दी चिट्ठाकार!!



Shastri JC Philip द्वारा चिन्तन के लिए 6 सितंबर, 2007 11:15 पूर्वाह्न को पोस्ट किया गया

Neeraj नीरज نیرج ने आपकी पोस्ट " रोक दीजिए नग्नता का यह प्रदर्शन " पर एक टिप्पणी छोड़ी है:

सौंदर्य ईश्वरीय वरदान है. मनुष्य बुद्धि और पराक्रम अपने कर्म से प्राप्त कर सकता है किंतु सौंदर्य ईश्वरीय छाया है. धन्य हैं वे जिन्हें तन की सुंदरता मिली है. जो मन की सुंदरता की बात करते हैं वे अपने मन को सांत्वना मात्र देते हैं. इसलिए आइए.. धरती पर अवतरित सुंदरता की देवियों का स्तुतिगान करें.

यदि यह निंदनीय है तो काहे इतनी तस्वीर छापे मेरे भाई. सौंदर्य बोध बढ़ाओ. अश्लीलता और कला में बारीक़ अंतर है. इसे समझ विकसित कर समझा जा सकता है. बात आगे बढ़ी तो और टीपने आएँगे. तनुश्री का नाम लिए हो तो ये झेलिए - Tanushree Wallpapers



Neeraj नीरज نیرج द्वारा चिन्तन के लिए 6 सितंबर, 2007 1:00 अपराह्न को पोस्ट किया गया
Ankur Gupta ने आपकी पोस्ट " रोक दीजिए नग्नता का यह प्रदर्शन " पर एक टिप्पणी छोड़ी है:

मैं विनोद जी की बात से सहमत हूं.



Ankur Gupta द्वारा चिन्तन के लिए 6 सितंबर, 2007 10:13 अपराह्न को पोस्ट किया गया
अनूप भार्गव ने आपकी पोस्ट " रोक दीजिए नग्नता का यह प्रदर्शन " पर एक टिप्पणी छोड़ी है:

किस किस पर रोक लगायेंगे आप ? सड़क पर चलनें वाली उन लड़कियों पर भी जिन के वस्त्र आप को पसन्द नहीं हैं या आप के मूल्यों पर खरे नहीं उतरते ?
क्या आप वही पहन रहे हैं जो आज से ५० बरस पहले आप के दादा जी पहने करते थे ?
परिवर्तन समय की मांग है । मूल्य तय करनें का ठेका किसी एक को नहीं दिया जा सकता ।



अनूप भार्गव द्वारा चिन्तन के लिए 6 सितंबर, 2007 11:06 अपराह्न को पोस्ट किया गया

Rachna Singh has left a new comment on your post "रोक दीजिए नग्नता का यह प्रदर्शन":

these fashion shows are for geting export orders. once the order is achieved they are made in bulk depending on the price . garment / fashion industry and hometextile industry is a sorce to earn dollars . this is work / profession for the designers/ models/ buyers . like a teachers earn by teaching we earn by selling our expertise
you have commented on a trade about which i think you have made no study in depth
all the skin show that you are saying is part of a trade and before you critsize a trade please make a effort to see how much revenue is being earned by that trade



Posted by Rachna Singh to हमारा वतन at September 7, 2007 6:43 AM

Rachna Singh ने आपकी पोस्ट " रोक दीजिए नग्नता का यह प्रदर्शन " पर एक टिप्पणी छोड़ी है:

these fashion shows are for geting export orders. once the order is achieved they are made in bulk depending on the price . garment / fashion industry and hometextile industry is a sorce to earn dollars . this is work / profession for the designers/ models/ buyers . like a teachers earn by teaching we earn by selling our expertise .

you are commenting on a trade without making any indepth study of the trade . how many people earn and how much revenue they bring to the country is of no significance to you



Rachna Singh द्वारा चिन्तन के लिए 7 सितंबर, 2007 6:49 पूर्वाह्न को पोस्ट किया गया
Shastri JC Philip ने आपकी पोस्ट " ठीक ही फरमा रहे हैं सीताराम येचुरी ! " पर एक टिप्पणी छोड़ी है:

"सांसदों पर भी 'काम नहीं तो वेतन नहीं' का प्रावधान लागू होना चाहिए। "

यह एक बहुत अच्छा सुझाव है. काम करो, दाम लो!

-- शास्त्री जे सी फिलिप

मेरा स्वप्न: सन 2010 तक 50,000 हिन्दी चिट्ठाकार एवं,
2020 में 50 लाख, एवं 2025 मे एक करोड हिन्दी चिट्ठाकार!!



Shastri JC Philip द्वारा चिन्तन के लिए 10 सितंबर, 2007 11:19 पूर्वाह्न को पोस्ट किया गया
अजित has left a new comment on your post "ठीक ही फरमा रहे हैं सीताराम येचुरी !":

इस देश में कुछ भी ग़लत नहीं है डॉ saab :)



Posted by अजित to हमारा वतन at September 10, 2007 4:59 PM

deepanjali ने आपकी पोस्ट " सत्ता के कोपभाजन बने कलाम, शेखावत और यूपी के 12 आई... " पर एक टिप्पणी छोड़ी है:

आपका ब्लोग बहुत अच्छा लगा.
ऎसेही लिखेते रहिये.
क्यों न आप अपना ब्लोग ब्लोगअड्डा में शामिल कर के अपने विचार ऒंर लोगों तक पहुंचाते.
जो हमे अच्छा लगे.
वो सबको पता चले.
ऎसा छोटासा प्रयास है.
हमारे इस प्रयास में.
आप भी शामिल हो जाइयॆ.
एक बार ब्लोग अड्डा में आके देखिये.



deepanjali द्वारा चिन्तन के लिए 25 सितंबर, 2007 4:03 पूर्वाह्न को पोस्ट किया गया
बोधिसत्व ने आपकी पोस्ट " संगति बुरी असाधु की .............! " पर एक टिप्पणी छोड़ी है:

बहुत अच्छा लिख रहे हैं मान्धाता जी। बधाई ....



बोधिसत्व द्वारा चिन्तन के लिए 9 अक्‍तूबर, 2007 6:48 पूर्वाह्न को पोस्ट किया गया
सत्येंद्र प्रसाद श्रीवास्तव ने आपकी पोस्ट " संगति बुरी असाधु की .............! " पर एक टिप्पणी छोड़ी है:

अच्छी जानकारी दी है



सत्येंद्र प्रसाद श्रीवास्तव द्वारा चिन्तन के लिए 9 अक्‍तूबर, 2007 9:01 पूर्वाह्न को पोस्ट किया गया
Sanjeet Tripathi has left a new comment on your post "सास मीरा और बहू आशा भोसले":

अफ़सोस जनक!!

हमारी श्रद्धांजलि उन्हें!!



Posted by Sanjeet Tripathi to हमारा वतन at October 16, 2007 1:28 AM

बोधिसत्व has left a new comment on your post "सास मीरा और बहू आशा भोसले":

जब मीरा के साथ ऐसा हो सकता है...तो साधारण के साथ क्या नहीं हो सकता ....पर साधारण शायद स्नेह के बंधन को इतनी आसानी से नहीं तोड़ते.....आप ने बहुत अच्छा लिखा...



Posted by बोधिसत्व to हमारा वतन at October 16, 2007 2:38 AM
Puneet Bindlish ने आपकी पोस्ट " रोक दीजिए नग्नता का यह प्रदर्शन " पर एक टिप्पणी छोड़ी है:

rachan singh wanted to say "whatever makes economic sense, she would do & let others do.." even that at the expense of our cultural heritage. Why only we need to be in western garb to showcase fabrics & designer trends. we have so much to showcase of our own. the countries like who are really making progress in true sense stick to their originality. Which is a lesson for pseudo-growing nations like india. We have the potential to make it big on our own ethos & heritage.



Puneet Bindlish द्वारा चिन्तन के लिए 17 अक्‍तूबर, 2007 9:17 अपराह्न को पोस्ट किया गया
मिहिरभोज ने आपकी पोस्ट " यह जो नंदीग्राम है - माकपा की बला और तृणमूल की संज... " पर एक टिप्पणी छोड़ी है:

माकपा का इतना लंबा राज्य आतंक के दम पर ही रहा है,पर आश्चर्य किसी मानवाधिकार संगठन ने इस मुद्दे को प्रभावी रूप से अभी नहीं उठाया.संभवतया ठेका उठने का इंतजार है



मिहिरभोज द्वारा चिन्तन के लिए 11 नवंबर, 2007 5:59 अपराह्न को पोस्ट किया गया
हर्षवर्धन ने आपकी पोस्ट " नंदीग्राम में सत्ता और पूंजी के मुखौटे में दिखे क... " पर एक टिप्पणी छोड़ी है:

आप कोलकाता में हैं। पूरी विस्तृत रिपोर्टिंग की है। बढ़िया है सारी सच्चाई लोगों को पता चलना चाहिए। मुझे तो पाकिस्तान औऱ पश्चिम बंगाल के हालात एक जैसे दिखने लगे हैं। आप भी देखिए
http://www.batangad.blogspot.com/



हर्षवर्धन द्वारा चिन्तन के लिए 13 नवंबर, 2007 5:54 अपराह्न को पोस्ट किया गया
संजय तिवारी has left a new comment on your post "तब तो बांग्लादेश भी लौट सकती हैं तस्लीमा !":

कहां गयी अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता?



Posted by संजय तिवारी to चिन्तन at November 30, 2007 9:39 PM
swapandarshi has left a new comment on your post "प्रभाष जोशी, राजेंद्र यादव और उदयप्रकाश":

aapka dhanyavaad, inhe padhane ke liye.



Posted by swapandarshi to चिन्तन at December 3, 2007 8:49 AM

शैलेश भारतवासी has left a new comment on your post "प्रभाष जोशी, राजेंद्र यादव और उदयप्रकाश":

यहाँ उपलब्ध कराने का शुक्रिया। सोचको थोड़ा सा विस्तार मिला



Posted by शैलेश भारतवासी to चिन्तन at December 4, 2007 3:07 AM
संजय बेंगाणी has left a new comment on your post "बाबरी मस्जिद का तमाशा !":

विस्तृत जानकारी. बहुत सही.



Posted by संजय बेंगाणी to चिन्तन at December 6, 2007 9:04 PM
Sanjeet Tripathi has left a new comment on your post "कामरेड बुद्धदेव का अब राम से युद्ध !":

पहले पैराग्राफ की तीसरी चौथी पंक्ति में संशोधन कर लें ताकि पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री एम करूणानिधि न कहलाएं।



Posted by Sanjeet Tripathi to चिन्तन at December 7, 2007 6:02 AM
अनुनाद सिंह has left a new comment on your post "कामरेड बुद्धदेव का अब राम से युद्ध !":

कम्यूनिस्ट, मुसलमानों को तुष्ट करने के लिये कुछ भी कर सकते हैं।



Posted by अनुनाद सिंह to चिन्तन at December 7, 2007 8:31 PM
बोधिसत्व has left a new comment on your post "त्रिलोचन शास्त्री : हार गए जीने की जंग !":

त्रिलोचन जी को मेरा नमन......



Posted by बोधिसत्व to चिन्तन at December 9, 2007 11:28 AM
Rama has left a new comment on your post "त्रिलोचन शास्त्री : हार गए जीने की जंग !":

डा. रमा द्विवेदी said...

परम श्रद्धेय त्रिलोचन जी के निधन से हिन्दी साहित्य जगत की अपूर्णनीय क्षति हुई है,उनको कादम्बिनी परिवार,हैदराबाद का शत-शत नमन।



Posted by Rama to चिन्तन at December 9, 2007 8:04 PM
आभा has left a new comment on your post "विदा हुए त्रिलोचन":

त्रिलोचन जी को खोकर खुद को कंगाल सा पा रही हूँ....
क्या करूँ....



Posted by आभा to चिन्तन at December 10, 2007 11:47 AM
राजीव जैन Rajeev Jain has left a new comment on your post "क्या अश्वत्थामा जीवित हैं...?":

अश्‍वत्‍थामा का खैर जो भी हो
इस किले और इसके इतिहास से परिचित कराने के लिए साधुवाद



Posted by राजीव जैन Rajeev Jain to हमारा वतन at December 11, 2007 12:57 PM
Mired Mirage has left a new comment on your post "क्या अश्वत्थामा जीवित हैं...?":

दिलचस्प किस्सा है ।
घुघूती बासूती



Posted by Mired Mirage to हमारा वतन at December 11, 2007 2:47 PM
अभय तिवारी has left a new comment on your post "क्या अश्वत्थामा जीवित हैं...?":

रहस्य रोमांच की दुनिया..



Posted by अभय तिवारी to हमारा वतन at December 11, 2007 7:08 PM
Sanjeeva Tiwari has left a new comment on your post "अपने ही घर में हुए बेगाने":

कमाल है मान्धाता जी यह सब हमें विस्‍तार से नहीं मालूम था । आपकी पत्रकारिता की छबि बेहतर झलक रही है इस चिंतन में । धन्‍यवाद ।

मॉं : एक कविता श्रद्वांजली



Posted by Sanjeeva Tiwari to चिन्तन at December 12, 2007 7:03 PM
मिहिरभोज has left a new comment on your post "जानलेवा है त्वचा रोग भी !":

मेरी बात को अन्यथा न लें पर इस तरह के लेख बिना छान बीन किये नहीं लिखे जाने चाहिये,यहां जो भी लिखा गया हे सत्य का अंश मात्र तो है पर पूरा सच नहीं,किसी रोगी का आत्मविश्वास पैदा करने में चिकित्सक को महिनों लग जाते हैं पर इस तरह की सार्वजनिक सूचनाएं उनका विश्वास तोङ डालती है,सोरायसिस सर्वथा जानलेवा रोग नहीं है,मैं स्वयं एक चर्म रोग विशेषज्ञ हूं.



Posted by मिहिरभोज to चिन्तन at December 18, 2007 9:45 AM
Popular India has left a new comment on your post "ईद उल जुहा पर गायों की न दें कुर्बानी: दारुल उलूम...":

किसी भी पर्व पर या कभी भी हमें जीव हत्या नहीं करनी चाहिए
मांसाहार भोजन कहाँ तक उचित है?
मंथन : विजया दशमी और मांसाहार भोजन
मांसाहार भोजन : उचित या अनुचित
शाकाहारी भोजन : शंका समाधान
http://popularindia.blogspot.com



Posted by Popular India to हमारा वतन at December 20, 2007 8:19 AM
संजय तिवारी has left a new comment on your post "ईद उल जुहा पर गायों की न दें कुर्बानी: दारुल उलूम...":

निश्चय ही स्वागतयोग्य पहल.



Posted by संजय तिवारी to हमारा वतन at December 21, 2007 12:01 AM

महेंद्र मिश्रा has left a new comment on the post "आज का संसार":

बहुत बढ़िया सराहनीय

Post a comment.

Unsubscribe to comments on this post.

Posted by महेंद्र मिश्रा to दिल की आवाज़ at Friday, 21 December, 2007 6:12:00 PM IST


इष्ट देव सांकृत्यायन has left a new comment on your post "त्यौहारों का संविधान - मजहब बैर नहीं सिखाता":
बहुत अच्छा किया आपने इस विषय को आगे बढा कर. इसके पहले देवबंद ने एक और फतवा जारी किया था. हराम की कमाई वाली दावतों में शामिल न होने का. ऐसे सभी फैसलों और फतवों का स्वागत किया ही जाना चाहिए. कष्टकर बात यह है कि हमारी तथाकथित धर्म निरपेक्ष ताकतें ऊल-जलूल बातों का समर्थन जरूर करतीं हैं लेकिन उन बातों का जिनसे समाज में आपसी सौहार्द बढे कोई जिक्र तक नहीं करता. शायद उनका स्वार्थ मुस्लिम समाज के रूढिवादी और कट्टरपंथी बनाए रखने से ज्यादा आसानी से सधता है. उन्हें बेनकाब किए जाने की जरूरत भी उतनी ही ज्यादा है. Posted by इष्ट देव सांकृत्यायन to हमारा वतन at December 22, 2007 12:40 AM

अजित वडनेरकर has left a new comment on your post "सारसंसार की नई पठनीय सामग्री- स्वीनिया के कुत्ताखो...":
आपको हमारा मेल मिल ही गया होगा। कृपया ज़रूर जवाब दें।
Posted by अजित वडनेरकर to चिन्तन at December 25, 2007 3:28 PM


Mired Mirage has left a new comment on your post "पार्टीबाजों, इस विद्यालय से सीखो !":
विचार तो अच्छा लगा ।
घुघूती बासूती
Posted by Mired Mirage to चिन्तन at January 6, 2008 10:52 AM



शास्त्री जे सी फिलिप् has left a new comment on your post "हर धर्म का मूल : सात महापाप और महापुण्य !":
हर व्यक्ति को यह विश्लेषण जरूर पढना चाहिये !!
Posted by शास्त्री जे सी फिलिप् to हमारा वतन at January 7, 2008 10:17 AM
Sanjay Gulati Musafir has left a new comment on your post "हर धर्म का मूल : सात महापाप और महापुण्य !":


धन्यवाद
मेरे बहुत काम की जानकारी है।
Posted by Sanjay Gulati Musafir to हमारा वतन at January 7, 2008 10:32 AM


annapurna has left a new comment on your post "विविधभारती को बचाना होगा !":
बहुत अच्छा लेख।
साथ-साथ विविध भारती को बचाने के कुछ सुझाव भी अगर आप देते तो उस पर अच्छी चर्चा चल सकती थी।
मैं तो अपने विचार रेडियोनामा पर रखती हूं यहां मैं औरों के विचार जानना चाहती हूं।
अन्नपूर्णा



Posted by annapurna to चिन्तन at January 11, 2008 1:42 AM

Mired Mirage has left a new comment on your post "पचास रुपए रोज में दुनिया की सबसे सस्ती कार ‘नैनो’":

हम तो यह कार खरीद रहे हैं ।
घुघूती बासूती


Posted by Mired Mirage to हमारा वतन at January 11, 2008 10:04 AM
डा.मान्धाता सिंह has left a new comment on the post "कमीने तो हर डाल पर बैठे हैं गालिब........":

भाई विनीत जी कुछ उग्र हो जाने के लिए क्षमा चाहूंगा। मेरी प्रतिक्रिया इस बात के लिए ज्यादा थी कि जनसत्ता नाम सुनकर लोग हंस देते हैं। बाकी जवाब मेरी तरफ से आशीषजी ने इसी लेख की टिप्पणी में दे दिया है। अब रूपेशजी से मुखातिब हूं। हम लड़ नहीं रह रहे हैं बल्कि अपनी गलतफहमियां दूर करने की कोशिश कर रहे हैं। आपका नजरिया अब भी सही है क्यों कि इसी हालात पर यशवंतजी को इसी अंदाज में आपने जवाब दिया था। मेंने यशवंतजी से पूछा था कि आप भड़ास को किस मानदंड पर खरा उतरते देखना चाहते हैं ? बहरहाल अपनी बिरादरी के साथ ही हूं मैं। बहस बंद। जय भड़ास ।
डा. मान्धाता सिंह
कोलकाता


दिलीप मंडल has left a new comment on your post "बड़ाबाजार में आग, नजरिया और कोलकाता के मारवाड़ी":
डॉक्टर साहेब, बढ़िया सामग्री दी है। मारवाड़ियों के बारे में बनी रूढ़ियों पर फिर से विचार करने को प्रेरित करता आलेख। Posted by दिलीप मंडल to हमारा वतन - हमारा समाज at February 3, 2008 9:21 PM


डा०रूपेश श्रीवास्तव has left a new comment on the post "बड़ाबाजार की आग, मारवाड़ी और पत्रकार":
निंदक नियरे राखिए आंगन कुटी छंवाय....
ये साला मैं कब समीक्षा ,आलोचना और निंदा मे अंतर समझ पाऊंगा ?
मुझे पत्रकारिता के एक पुरोधा ने कहा था कि हो सकता है कि मैं तुम्हारी इसी भी बात से सहमत न रहूं किन्तु यदि कोई तुम्हारा बोलने का अधिकार छीनेगा तो मैं तुम्हारे साथ उससे लड़ूंगा...


डा.मान्धाता सिंह has left a new comment on the post "बड़ाबाजार की आग, मारवाड़ी और पत्रकार":
डा. रूपेशजी, बहुत अच्छा लगा आपका सुझाव। मगर आप की कुछ बातों से मैं सहमत नहीं हूं। मसलन बड़ाबाजार पर अपना लिखा लेख जारी न करके सीधे इसे परोसा तो सिर्फ इसलिए कि आप वह भी जानें जो इस किस्म के लोग कहते हैं। दूसरी बात यह कि एक विशेष समदाय के लिए लिखे लेख में लेखक का जो आक्रोश दिखता है उसे शायद संपादित करने की नहीं बल्कि आप जैसे लोगों से इस नजरिए पर बेहतर टिप्पणी की जरूरत थी। ये क्या कहना चाहते हैं वह इनके लेख में बहुत स्पष्ट है। नाराज पत्रकारों से भी इसी लिए हैं क्यों कि कुछ अखबारों की भूमिका भी ऐसी ही थी। कोलकाता शहर में बड़ाबाजार सरकारी उपेक्षा और अव्यवस्था की वह त्रासदी झेल रहा जिसे कुछ शब्दों में शंभू चौधरी ने कहने की कोशिश की है। यह अलग बात है कि भुक्तभोगी के पास कम धैर्य होता है। आपसे वैचारिक मरहम और उनके गलत नजरिए पर सार्थक टिप्पणी की उम्मीद थी। आपने शायद गुस्से में न मुझे बख्सा और न लेखक को। फिर भी तल्ख टिप्पणी जैसी भी हो मुझे अच्छी ही लगती है। उम्मीद है आप सार्थक निंदक की भूमिका छोड़ेंगे नहीं। धन्यवाद।

rakee has left a new comment on your post "प. बंगाल में बर्डफ्लू फैला":
i have seen your web page its interesting and informative.
I really like the content you provide in the web page.


डा.मान्धाता सिंह has left a new comment on the post "एक दलित पत्रकार की तलाश - भाग 2":
दिलीपजी सिर्फ गिनने के लिए अगर दलित पत्रकार की बात की जा रही है तो सन्मार्ग के प्रसादजी को भी शामिल कर लीजिए। कुछ और अखबारों में भी मिल जाएंगे मगर मुखिया कब बनेंगे। यानी सचमुच प्रभावशाली हो उनका अधिकार और पद। खैर छोड़िए, मायावती जी ने निजी संस्थानों में आरक्षण को कारगर तरीके से लागू करने वादा किया है मगर कितना कर पाएंगी जबकि पासवान जैसे नेता ही उनके विरोध में खड़े हो रहे हैं। शायद दलितों का भी सवर्ण वर्ग तैयार हो गया है।

दिलीप मंडल has left a new comment on the post "एक दलित पत्रकार की तलाश - भाग 2":
सही चिंता है डॉक्टर साहब। किसी का दलित होना अपने आप में उसे बदलाव का पक्षधर नहीं बना देता। पासवान और जगजीवन राम इसके उदाहरण हैं।


Mrs. Asha Joglekar has left a new comment on your post "मैंग्रोव नष्ट हुआ तो सुंदरवन भी नहीं बचेगा":
जानकारी भरे सुंदर लेख के लिये आपको बहुत बहुत बधाई ।
Posted by Mrs. Asha Joglekar to हमारा वतन - हमारा समाज at February 13, 2008 6:45 AM


संजय तिवारी has left a new comment on your post "80 करोड़ लोग समझते हैं हिंदी मगर विश्व की दस भाषाओं...":
चिंताजनक बात. शायद चार-पांच सालों में यह स्थिति बदले.
वैसे भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है और हिन्दी उसकी आधिकारिक भाषा फिर भी आज तक यूएन ने उसको घास नहीं डाला है.



दैनिक फुर्सत में फुरसत has left a new comment on your post "इंटरनेट पर अभी फिसड्डी ही है हिंदी !":

श्रद्धेय, डाक्‍टर साहब, आपकी राष्‍ट्रवादी विचारधारा को साधुवाद । एक राष्‍ट्रवादी विचारक हिन्‍दी को लेकर चिंतित क्‍यों नहीं होगा । बहुत विस्‍तृत आकड़े आपने उल्‍लेख्‍ा किये हैं वाकई सोचने पर मजबूर कर रहे हैं। पर मुझे लगता है कि विदेश में बना अंतरताना यंत्र आज भारत में बड़ी संख्‍या में उपलब्‍ध है और आम भारतीय की पहुंच में तो है, रही बात भाषा की, हमें जरुरत पढ़ते ही हिन्‍दी चिट्रठाकारी शुरु हो गई, बहुत बड़ी संख्‍या में हिन्‍दी जैसी भाषा जिसे लिखने में कठिनता आती है, जहां आंग्‍लभाषा के शब्‍दों के मुकाबले बहुत अधिक जटिलता है फिर भी आज हमने आंग्‍लभाषा के सहारे ही आम भारतीयों तक हिन्‍दी लिखने के तरीके प्रसारित कर लिये हैं, सकल भारतीय सात्विकवृत्ति ही हमें दूसरे कोने से देखने में पिछड़ी लगती है, जबकि हम अपने स्‍थान बहुत आगे है, आज चूंकि अंतरजाल आया है तो हम पीछे लग रहे हैं वरना तो हमारी भाषा आपके आकड़ो के अनुसार ही बहुत विस्‍तृत क्षेत्र में मौजूद हैं हम पीछे कहां है ? अब अंतरजाल पर कुछ ही समय पर क्‍या आप जैसे राष्‍ट्रवादी विचारक इस खुशी से झूम नहीं रहे कि कितने हिन्‍दी भाषियों ने मातृभाषा को अपनाकर चिट्रठाकारी शुरु कर दी है। शीघ्र ही कछुआ चाल से ही सही, अरबों पृष्‍ठ जाल पर हिन्‍दी के होंगे जिसमें आप जैसे राष्ट्रवादियों का महत्‍वपूर्ण योगदान होगा। साधुवाद एक अच्‍छे लेख के लिये। आनन्‍द गांधी efursat.blogspot
Posted by दैनिक फुर्सत में फुरसत to चिन्तन at February 19, 2008 9:29 AM


आलोक has left a new comment on your post "कौन सी जिम्मेदारी निभा रहे हैं हिंदी ब्लागर ?":
मान्धाता जी,
सिर्फ़ चिट्ठे ही नहीं हैं अन्तर्जाल पर। और भी बहुत कुछ है। मञ्च, सवाल जवाब के स्थल, समाचार समूह आदि। इन सब का सामूहिक असर होगा।
आलोक
Posted by आलोक to हमारावतन - हमारासमाज at February 25, 2008 7:49 AM


Samrendra Sharma has left a new comment on your post "कौन सी जिम्मेदारी निभा रहे हैं हिंदी ब्लागर ?":


बिल्कुल ऐसा होना चाहिए मै तैयार हु
Posted by Samrendra Sharma to हमारावतन - हमारासमाज at February 25, 2008 8:38 AM


मन्धाता जी
अभी अभी आप का ब्लोग देख कर आ रही हूँ, बहुत ही रोचक है, ई-मेल से स्बस्क्राइब करने का तरीका नहीं मिला, नही तो अपने ब्लोग रोल में जोड़ लेती…शुभकामनाएं
अनिता--
http://anitakumar-kutchhumkahein.blogspot.com/


MANISH RAJ has left a new comment on your post "आज का क्षत्रिय":

EK KSHATRIY HONE KE NAATE MUJHE HARDIK KHUSHI HUI KI APNE IS JAATI KO ANTARJAAL PAR CHARCHA KA VISHAY BANAYAA HAI.
APEKSHIT TATHY PRASTUT KARNE KA PRAYAS KARUNGA.
Posted by MANISH RAJ to हमारावतन - हमारासमाज at March 11, 2008 8:15 AM



Amit has left a new comment on your post "11 अंकों का होगा मोबाइल नंबर !":

मोबाइल उद्योग में जिस तरह से नित नई प्रौद्योगिकी आ रही है उसके मद्देनजर वह दिन दूर नहीं लगता जब कीपैड की जगह सिर्फ टचस्क्रीन का वक्त आ जाए। जनाब सिर्फ़ टच स्क्रीन वाले फोन काफ़ी समय से बाज़ार में हैं। सोनी एरिकस्सन का P990i और P910i आया था जिसमें कीपैड तो था लेकिन उसमें टच स्क्रीन भी थी और स्क्रीन पर वर्चुअल कीपैड भी उपलब्ध हो जाता था। O2 के XDA सीसीज़ के फोन में कीपैड होता ही नहीं, सिर्फ़ टचस्क्रीन ही होती है। पिछले वर्ष Apple Computers ने अपना बहुचर्चित iPhone निकाला जो कि पूरा टच स्क्रीन वाला ही है बिना कीपैड के। उसके मुकाबले पर LG ने अपना Prada निकाला और हाल ही में सैमसंग भी वैसा ही फोन निकाल लाया है। और रोटेशन के अनुसार स्क्रीन का माल बदलने की बात तो वह भी बाज़ार में उपलब्ध है। उदाहरण के लिए नोकिआ N95 8GB वाले फोन को लीजिए, उसमें आप कोई वीडियो देख रहे हैं, फोन को सीधे पकड़ने की जगह आप साइड में टेढ़ा कर देते हैं तो फोन अपने आप वीडियो को घुमा देगा ताकि वह आपको सीधा ही दिखाई दे!!iPhone में भी शायद यह सुविधा है!!
Posted by Amit to हमारावतन - हमारासमाज at March 16, 2008 12:24 PM


ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ has left a new comment on your post "सावधान ब्लागर्स, जेल भी हो सकती !":

आपकी चिंता जायज है।
एक निवेदन- कृपया कमेंट बॉक्स से “वर्ड वेरीफिकेशनद्ध हटा दें, इससे इरीटेशन होती है।
Posted by ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ to चिंतन at March 17, 2008 3:16 AM



JaCk has left a new comment on your post "आजादी के लिए लहूलुहान तिब्बत !":

Greetings from Italy :d

please visit my blog
Posted by JaCk to चिंतन at March 18, 2008 1:58 PM


Anonymous has left a new comment on your post "सिर्फ धनी वर्ग के लिए ही विश्वस्तरीय संस्थान की वक...":

Well, since 'independence' the "Votethursties" have unofficially notified upper class as untochables and they would never ever ponder on the plight A very poor brahmin's child, having all the brains but not enough money.

On the other hand, having not much brains is never going to be a problem to any millionair's child to buy Mata Saraswati!!!

Posted by Anonymous to हमारावतन - हमारासमाज at March 19, 2008 1:38 AM


दिलीप मंडल has left a new comment on your post "अब इस चमन में तुम्हारा गुजारा नहीं !":

...ये देश हुआ बेगाना। डॉक्टर साहब, अच्छी जानकारी मिली इस लेख से। धन्यवाद। तस्लीमा मुद्दे पर वाममोर्चा की कलई उतर गई है।
Posted by दिलीप मंडल to चिंतन at March 19, 2008 12:25 PM




बेदुनिया के कालचिंतन पर आपकी उपस्थिति

Comment from ravindra Vyas on 21 Mar 2008 13:22:02 IST in response to:
अलविदा तसलीमा, भारत छोड़ कहीं और बसो जाकर

काल चिंतन में मन्धाता सिंह का ब्लाग पढा। मैं उन लोगों में शामिल हूँ जो यह मानते हैं कि तस्लीमा नसरीन एक औसत दर्जे की लेखिका हैं। पहली बार जब वे अपने उपन्यास लज्जा के कारण सुर्खियों में आई थी तब मैंने बडी हसरत से पढना शुरू किया था और बडी मुशकिल से इसे पूरा कर पाया था। तब मुझे ऎसा लगा था कि इसमें ऎसा क्या है जिसकी वज़ह से यह चर्चा में है। इसमें न तो लैंग्वेज को लेकर सचेतपन है और न ही अपनी बात को लेकर नए ढंग से लिखने का जोखिम। कहानी लगभग सपाट है और यथार्थ की रूढ अभिव्यक्ति है। लेकिन मैं तस्लीमा को इसलिए सलाम करता हूं कि वे अपने लेखन के प्रति न केवल प्रतिबध्द हैं बल्कि निरन्तर रचनारत हैं। जर्मनी के लेखक हाइनरिख ब्योल ने लिखा है कि एक रचनाकार की मृत्यु उसकी सबसे खराब रचना में नहीं होती बल्कि तब होती है जब वह रचने का अनिवार्य जोखिम लेना छोड़ देता है। कहने दीजिए तस्लीमा ने रचने का अनिवार्य जोखिम बखूबी उठाया है और वे तमाम प्रतिकूल परिस्थियों में लगातार लिख रहीं हैं। अपने आंतरिक और बाहरी यथार्थ के हाहाकार को वे जैसा भी रच रहीं हैं वह इस मायने में अर्थ रखता है कि उनका लेखन निर्भीक का लेखन है। प. बंगाल सरकार ने उनके साथ अपमानजनक व्यवहार किया है। उनका यूं हमारा देश छोड़कर जाना हमारे लिए शर्मनाक है।


Comment from Keanu on 19 Mar 2008 14:16:01 IST in response to:
भारत में सांस्कृतिक एकता का अलख जगाया था चैतन्य ने

Commies harp that for masses, religion is opium. But if this opium brings harmony, peace and love then rather than the dictatorship of Stalin, the "Unmadi" state of Shree Chaitanya is always welcome! People like Shree Chaitanya have nothing to impose, nothing to prove, and nothing to make others obey forcefully for their life itself is the light which shows myriads of troubled people the WAY to peace, love and harmony and people lovingly follow their path with the key words being "own volition".

Comment from Keanu on 18 Mar 2008 13:02:58 IST in response to:
तिब्बत की आजादी का सवाल

"Samarath Ko Nahin Dosh Gusaeen" - An alltime apt short liner by TulasidasJi. China's theories, however irrational they may be, become valid because of its military power. Otherwise, even the cultural difference between Communist China and Unique Tantrik Buddhism of Tibet who believe strongly in re-incarnation makes a sifficient cause for Tibet to be a Separate Sovereign State. The people of the land do not want Communist Control. It is only with Violent use of Force, that China has got Tibet otherwise the referendum is Blatantly against China. It is a pity that rest of the world is unable to help preserve this sterling Culture of Non-Violent Tibetans, who have never ever resorted to Bombings or terrorist attacks or any means of violence. In fact, from the perspective of these non-violent Tibetans, China is a Terrorist State.

Comment from Anonymous on 06 Mar 2008 22:50:48 IST in response to:
उजड़ी हुई मुंबई का सपना देख रहे हैं बाल ठाकरे !

मुम्बे मए आ कर बात करो तो मजा है. बिहार मे रह कर कय बात करते हो.

Comment from Anonymous on 06 Mar 2008 13:04:35 IST in response to:
उजड़ी हुई मुंबई का सपना देख रहे हैं बाल ठाकरे !

"एक बिहारी सब पे भरी" बाल ठाकरे सुधर जाओ तुम्हे नही मालुम जब एक बिहारी सरकता है तो सब पे भारी होता है. तुमने जो शेर लिखा है पढ़ कर आंनद आया - अब मेरा शेर सुनो उङीया , तेलगु कपटी चोर , महा मराठी , महामादर (आगे क्या लिखु आप लोग खुद हि समझदार है) मैं ना तो किसी राजनितिक दल से हु और ना हि कोई नेता हु. मै सबसे पहले एक भारतीय हु.फिर एक बिहारी हु .तुम नेता लोग जो भी राजनिती करनी है करो लेकिन एक बात जान लो "एक बिहारी सब पे भरी" नोट:-{यहाँ पर तेलगु तथा उङीया क उपयोग केवल इस शेर को सार्थक बनाने के लिये किया गया है क्रिपा कर के बुरा ना माने } डॉन

Email sent by sudhakar mishra [sudhakar_mishra@webdunia.com] on portal: http://chintan.mywebdunia.com/

लेखक महान लेखक

महान आप एक महान लेखक हैं आप की रचना देश भक्ती की मिशाल हैं . आप सत्य को लिखने वाले महान लेखल हैं शुभ कामनायेkaamanaaye

Comment from Anonymous on 25 Feb 2008 19:26:13 IST in response to:
पाकिस्तान में ब्लागरों की अहमियत

आपने आंखे खोल दी सही है हर बार पाकिस्तानीयों का मअजाक उडाने के बजाय इस बार कुछ सिखना चाहिए... कोशिश की जाएगी की हम भी इस प्रकार की कोई मुहिम शुरू करें

Comment from Anonymous on 18 Feb 2008 23:53:50 IST in response to:
जलती रहे ब्लागर्स मशाल

डा साहब बहुत रोचक वर्णन रहा ब्लोग की सालगिरह मुबारक हो

Comment from sachin sharma on 17 Feb 2008 21:40:55 IST in response to:
सेतुसमुद्रम बनाम इतिहास राम के सेतु का

शानदार लेख लिखा है..इसे लेख तो क्या कहूं, यह अपने आप में पूरा एक शोधपत्र है.....आपने निश्चित ही बढ़िया होमवर्क किया है.....बहुत सारी बातें बताई हैं....विषय को कापई विस्तार दिया है.....अच्छा लिखने के लिए बधाई....।

Comment from sachin sharma on 11 Feb 2008 21:00:05 IST in response to:
समुद्र लील सकता है कोलकाता को

बहुत अच्छी बात उठाई है......रुपए पैसे के कारण आदमी को अब प्रकृति की चिन्ता नहीं रही....सब अपनी-अपनी देख रहे हैं......लेकिन हमें इस बारें में गंभीरता से सोचना होगा....अच्छे विषय के लिए साधुवाद..।

1 comment:

हर्षवर्धन said...

बहुत सहेजकर आपने अपने ब्लॉग भ्रमण का सबूत पेश किया है।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...