Sunday, 3 June 2007

धनकुबेरों की दुनिया

भारत के सबसे अमीर व्यक्ति मुकेश अंबानी कुल 20 अरब डॉलर की निजी संपत्ति के मालिक हैं। मुकेश अंबानी अपने लिए एक नई इमारत बनवा रहे हैं, इस इमारत की हर बात ख़ास है. रिलायंस इंडस्ट्रीज़ के चेयरमैन मुकेश अंबानी की इस हवेली में कुछ 600 कर्मचारी होंगे जो परिवार के छह सदस्यों की देखभाल करेंगे. यह इमारत अगले वर्ष तक बनकर तैयार हो जाएगी, इस 27 मंज़िला इमारत से पूरी मुंबई का नज़ारा दिखाई देगा. वैसे कहने के लिए तो इसे 27 मंज़िला इमारत कहा जाएगा पर इन 27 मंज़िलों की इमारत की ऊँचाई 60 मंज़िला इमारत जितनी होगी. एक मामूली पेट्रोल पंप अटेंडेंट से देश के नंबर वन उद्योगपति बने धीरूभाई अंबानी के बेटे मुकेश और अनिल अंबानी के बीच बँटवारा हो चुका है. इस इमारत पर लगभग 45 अरब रूपए ख़र्च होंगे, यह ख़बर ऐसे समय पर आई है जबकि हाल ही में मुकेश अंबानी देश के पहले खरबपति बन गए हैं. बताया गया है कि मुकेश अंबानी समंदर का पूरा नज़ारा लेना चाहते थे इसलिए उन्होंने यह ऊँची इमारत बनवाने का फ़ैसला किया. इस शानदार इमारत की पहली छह मंज़िलों पर कार पार्किंग होगी, उसके बाद वाली दो मंज़िलों पर हेल्थ क्लब, उसके ऊपर वाली मंज़िलों पर उनका अमला रहेगा. अंबानी परिवार ऊपर वाली मंज़िलों पर रहेगा. परिवार में मुकेश अंबानी की माँ कोकिला बेन, उनकी पत्नी नीता अंबानी और तीन बच्चे हैं. इस इमारत में कई स्विमिंग पूल तो होंगे ही और यहाँ हेलिकॉप्टरों के उतरने के लिए हैलिपैड भी बनाया जा रहा है. इस योजना के आलोचकों का कहना है कि जिस देश में इतनी ग़रीबी है वहाँ ऐसी इमारत का बनाना धन का अभद्र प्रदर्शन है. मुकेश अंबानी कुल 20 अरब डॉलर की निजी संपत्ति के मालिक हैं और उनका कारोबार लगातार तेज़ी से बढ़ रहा है जिसमें रिटेल क्षेत्र भी शामिल है. 'जापानियों से अधिक भारतीय अरबपति' फ़ोर्ब्स की सूची में लक्ष्मी मित्तल पांचवें स्थान पर भारतीय अरबपतियों की संख्या तेज़ी से बढ़ी है और उसने इस मामले में जापानियों को भी पीछे छोड़ दिया है. प्रतिष्ठित फ़ोर्ब्स पत्रिका की ताज़ा रिपोर्ट के अनुसार 36 भारतीय अरबपति हैं, जबकि 24 जापानी अरबपति हैं. वर्ष 2006 के मुक़ाबले अरबपतियों की संख्या में 19 प्रतिशत की वृद्धि हुई है और अब दुनिया में कुल 946 अरबपति है. जबकि पिछले वर्ष इस सूची में 793 लोग थे. अरबपतियों की संपत्ति में भी 35 प्रतिशत की वृद्धि हुई है. वहीं माइक्रोसॉफ्ट के सह संस्थापक बिल गेट्स लगातार तेरहवें साल सबसे अमीर व्यक्ति घोषित किए गए हैं. फ़ोर्ब्स के अनुसार उपभोक्ता और रीयल एस्टेट क्षेत्र में उछाल और शेयर बाज़ार में मज़बूती के चलते अरबपितयों की संख्या तेज़ी से बढ़ी है. पिछले दो दशक से एशिया में जापानी अरबपतियों की संख्या सबसे अधिक रही, लेकिन अब भारतीय अरबपतियों ने जापान को पीछे छोड़ दिया है. फ़ोर्ब्स के मुताबिक यदि इनकी संपत्ति पर नज़र डाली जाए तो भारतीय अरबपतियों की संपत्ति 191 अरब डॉलर है जबकि जापानी अरबपति 64 अरब डॉलर संपत्ति के मालिक हैं. शीर्ष सौ में भारतीय स्टील किंग लक्ष्मी मित्तल, मुकेश अंबानी, अनिल अंबानी,विप्रो के अध्यक्ष अज़ीम प्रेमजी उन नौ भारतीयों में शामिल हैं जिन्हें फ़ो‌र्ब्स ने दुनिया के 100 सबसे धनी व्यक्तियों की सूची में स्थान दिया है. इसमें मित्तल स्टील के लक्ष्मी मित्तल विश्व में पांचवें स्थान पर हैं और उनकी निजी संपत्ति 32 अरब डॉलर की है. फ़ोर्ब्स की सूची में मुकेश 14 वें और अनिल 18 वें नंबर पर हैं रिलायंस उद्योग के चेयरमैन मुकेश अंबानी 20.1 अरब डॉलर और उनके छोटे भाई अनिल अंबानी 18.2 अरब डॉलर की संपत्ति के साथ इस सूची में 14 वें और 18वें पायदान पर हैं. प्रेमजी इस सूची में 21 वें स्थान पर हैं और उनकी कुल संपत्ति 17.1 अरब डॉलर है. शीर्ष सौ अरबपतियों में शामिल अन्य भारतीय हैं- रीयल एस्टेट कंपनी डीएलफ के केपी सिंह (10 अरब डॉलर), भारती टेलीकॉम के सुनील मित्तल और उनका परिवार (साढ़े नौ अरब डॉलर), आदित्य बिड़ला समूह के कुमार मंगलम बिड़ला (आठ अरब डॉलर), एस्सार समूह के शशि और रवि रुइया (आठ अरब डॉलर). सौ अरबपतियों में भारतीय लक्ष्मी मित्तल मुकेश अंबानी अनिल अंबानी अज़ीम प्रेमजी के पी सिंह सुनील मित्तल और परिवार कुमार मंगलम बिड़ला शशि और रवि रुइया अरबपतियों की संख्या के मामले में भारत एशिया में अग्रणी देश के रूप में उभरा है. चीन और हांगकांग को मिलाकर 41 अरबपति हैं. बिल गेट्स सबसे अमीर फ़ोर्ब्स की सूची में इस बार भी सबसे अधिक अमरीकी हैं. माइक्रोसॉफ्ट के चेयरमैन बिल गेट्स लगातार तेरहवें साल पहले स्थान पर हैं. उनकी संपत्ति 56 अरब डालर आँकी गई है. हालांकि उनके और दूसरे पायदान पर मौजूद वारेन बफेट की संपत्ति का अंतर घटा है. शेयर बाज़ार की जानी-मानी हस्ती बफेट 52 अरब डॉलर की संपत्ति के मालिक हैं. बिल गेट्स लगातार 13 वें साल दुनिया के सबसे धनी व्यक्ति घोषित हुए हैं मेक्सिको के उद्योगपति कार्लोस स्लिम साल भर में अपनी संपत्ति में 19 अरब डॉलर का इजाफ़ा करके तीसरे स्थान पर पहुँच गए हैं. उनकी कुल संपत्ति 49 अरब डॉलर है. फ़ोर्ब्स के एडिटर-इन-चीफ स्टीव फ़ोर्ब्स ने सूची जारी करते हुए कहा, '' अरबपतियों की संख्या में वृद्धि विश्व की अर्थव्यवस्था में जारी तेज़ी दर्शाती है.यह मानव इतिहास का सबसे समृद्ध वर्ष है.'' फ़ोर्ब्स की एसोसिएट एडिटर ल्यूसा क्रोल ने कहा, ''एशिया के लिए यह अच्छा साल रहा और भारत और चीन के अरबपतियों की संख्या में ख़ासी वृद्धि देखने को मिली.'' रिलायंस इंडस्ट्रीज़ के शेयरों की क़ीमत में ज़बर्दस्त बढ़ोतरी के साथ ही समूह के चेयरमैन मुकेश अंबानी भारत के पहले खरबपति बन गए हैं. उधर उनके भाई अनिल अंबानी भी बहुत पीछे नहीं है. विभिन्न कंपनियों के शेयरों को मिलाकर उनकी संपत्ति अरबों में आंकी गई है. मुकेश अंबानी भारत के पहले खरबपति मुकेश अंबानी की चार प्रमुख कंपनियां आरआईएल, रिलायंस पेट्रोलियम, आईपीसीएल और रिलायंस इंडस्ट्रीज़ इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड की कुल लागत मिलाकर 2.5 खरब आकी गई है जिसमें से अन्य निवेशकों का हिस्सा क़रीब 1.3 खरब है यानि अकेले मुकेश के पास एक खरब से अधिक की संपत्ति है. इन आकड़ों के साथ ही मुकेश अंबानी भारत के पहले खरबपति व्यवसायी बन गए हैं. हालांकि अभी उन्हें दुनिया के सबसे धनी भारतीय का खिताब नहीं मिल सकेगा क्योंकि लक्ष्मी निवास मित्तल उनसे काफी आगे हैं. भारत में यूं तो धनी लोगों की कमी नहीं है और अरबपतियों में कई नाम हैं लेकिन अभी खरबपति में सिर्फ और सिर्फ मुकेश अंबानी का ही नाम आया है. भारत के अन्य धनी अरबपतियों में नाम है विप्रो समूह के अजीम प्रेमजी, भारती समूह के सुनील मित्तल, डीएलएफ ग्रुप के के पी सिंह, कुमार मंगलम बिड़ला आदि. ब्रिटेन में ‌एशियाई धनकुबेर ब्रिटेन के अरबपति, करोड़पति और लखपति एशियाइयों की इस वर्ष की सूची में एक बार फिर इस्पात सम्राट लक्ष्मी मित्तल का ही नाम सबसे ऊपर है. वे लगातार तीसरे वर्ष सबसे धनी एशियाई आँके गये हैं. यहाँ के एशियन एक्सप्रेस नामक समाचार पत्र द्वारा हर वर्ष प्रकाशित की जाने वाली ब्रितानी अरबपतियों की ‌एशियाई धनियों की सूची में उनकी सम्पत्ति को 1 अरब 31 करोड़ पाउंड की बताया गया है, यानि पिछले वर्ष से 14 करोड़ पाउंड ज़्यादा. इस बार की सूची में 71 नये करोड़पतियों के नाम हैं और उनमें बेंड इट लाइक बैक्हम नामक फ़िल्म की निर्देशक गुरिंदर चड्ढा तथा बॉम्बे ड्रीम्ज़ नामक गीतिनाट्य एवं बीबीसी टीवी के धारावाहिक कुमार्ज़ एट 42 की निदेशक मीरा स्याल के नाम उल्लेखनीय हैं. करोड़पतियों में उल्लेखनीय हैं 57 करोड़ पाउंड की हैसियत वाली सौन्दर्य प्रसाधन निर्माता कम्पनी लोर्नामीड इंटरनेशनल का जटानिया परिवार, 35 करोड़ पाउंड की हैसियत वाली दो कम्पनियों क्रमशः वेमीड हैल्थकेयर कम्पनी के पटेल बंधु विजय और भीखू तथा एडवर्डियन ग्रुप का जसमिंदर सिंह परिवार, 25 करोड़ पाउंड की हैसियत वाली कम्पनी न्यू लुक के टॉम सिंह, 20 करोड़ पाउंड की कॉमक्राफ़्ट का चंदरिया परिवार, 16 करोड़ 70 लाख पाउंड की बैस्टवे कम्पनी के मालिक सर अनवर परवेज़ और 15 करोड़ पाउंड की बीनाटोन कम्पनी के गुलू लालवाणी. जिन जिन करोड़पति और लखपतियों के नाम इस वर्ष की सूची से ग़ायब हैं, उनमें सबसे प्रमुख हैं हिन्दुजा बंधु. इन्होंने कभी सहस्राब्दी गुम्बद के लिए 10 लाख पाउंड का चंदा दिया था और इनकी ब्रिटिश नागरिकता पाने की कोशिशों के कारण ब्रिटिश सरकार के उत्तरी आयरलैंड सम्बन्धी मंत्री पीटर मैंडलसन को त्यागपत्र देना पड़ा था. हिन्दुजा बंधुओं का नाम शामिल न किये जाने का कारण यह बताया गया है कि वे अपनी सम्पत्ति भारत ले गये हैं. इनके स्थान पर आया है जटानिया परिवार. वर्तमान मन्दी ने अन्य के समान यहाँ के एशियाइयों पर भी वज्रपात किया है और उनकी पिछले वर्ष की 9 अरब 40 करोड़ पाउंड की सम्पत्ति घटकर 8 अरब 90 करोड़ पाउंड रह गई है. इस सन्दर्भ में सबसे बढ़कर यानि साढ़े सत्रह करोड़ पाउंड का घाटा हुआ है कैपारो इस्पात कम्पनी के सुविख्यात लॉर्ड स्वराज पॉल को. यह होने पर भी एशियन रिच लिस्ट इस बात का प्रमाण है कि ब्रितानी धनकुबेरों में हालात की मार झेलने की अद्भुत क्षमता है.

1 comment:

Raviratlami said...

धनकुबेरों का विस्तृत और अजूबा खाका खींचा है आपने!

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...